Breaking News
  • आईसीसी महिला विश्व टी-20 चैम्पियनशिप के अंतिम ग्रुप मुकाबले में भारत का सामना ऑस्ट्रेलिया से
  • जममू-कश्मीर: पंचायत चुनाव के पहले चरण के लिए वोटिंग, जम्मू-21, घाटी-16 और लद्दाख के 10 ब्लॉको में वोटिंग
  • प्रधानमंत्री मोदी का मालदीव दौरा, नवनिर्वाचित राष्ट्रपति सोलिह के शपथ ग्रहण समारोह

वैज्ञानिकों ने खोज निकाला मच्छरों को काबू में करने का आसान तरीका, आप भी जानिए

टोरंटो: भारत समेत दुनिया के लगभग तमाम देशों में मच्छरों की बड़ती संख्या इतनी बड़ी परेशानी बन चुकी है कि इससे निजात दिलाने के लिए दुनिया के जाने-माने वैज्ञानिकों को भी इस लड़ाई में उतरनी पड़ा रही है। मच्छरों की संख्या पर नियंत्रण करने के लिए वैज्ञानिक पिछले लंबे समय से रिसर्च कर रहे हैं।

इस बीच वैज्ञानिकों के हाथ एक सरल और सस्ता तरीका लगा है, जिसकी मदद से कम खर्च में मच्छरों की संख्या पर नियंत्रण किया जा सकता है। बताया जाता है कि इससे लिए भूखी मछलियों को इस्तेमाल किया जाए तो यह लाभदायक साबतित हो सकता है। दरअसल इस संबंध में कनाडा में वाटरलू विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं ने शोध किया है।

अंदर की बात: महबूबा को CM की कुर्सी से हटा कर BJP ने साफ किया अपना रास्ता

शोध के दौरान अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि भूखी मछलियां मच्छरों का लार्वा खाती हैं, जो मच्छरों की संख्या कम करने का असरदार उपाय साबित हो सकती है। बताया जाता है कि इसके लिए भूखी मछलियों को उस पानी में रखा जाता है जहां मच्छर अपने अंडे देते हैं। अनुसंधानकर्ता के अनुसार अगर मच्छरों की संख्या को नियंत्रण में रखना हो तो इसके लिए जरूर है कि इसे लार्वा स्तर पर ही खत्म किया जाए।

महबूबा मुफ्ती से तंग आकर BJP ने दिया ‘तलाक’, जम्मू-कश्मीर के सथ बड़ा धोखा

ऐसे में जिस पानी में मच्छर अंडे देते हैं वहां भूखी मछलियों को रखा जाए तो वे लार्वा से मच्छर बनने के पहने ही उसे साफ कर देगी। अनुसंधानकर्ता के अनुसार अगर मच्छरों की समस्या के मुक्ति पाने के लिए भूखी मछलियों का इस्तेमाल किया जाए तो यह लाभकारी और असरदार तरीका साबित हो सकता है।

वेश्याओं को छोड़ कर 350 औरतों के साथ संबंध बना चुका है यह बॉलीवुड एक्टर!

बता दें कि अभी तक इसके लिए लार्वासाइड का इस्तेमाल किया जाता है, यह एक प्रकार का कीटनाशक है जिसका बुरा असर पारिस्थितिकी तंत्र पर भी होता है। ऐसे में मच्छरों की समस्या के लिए मछलियों का इस्तेमाल लाभकारी होने के साथ-साथ सस्सता उपाय भी साबित हो सकता है और यह पर्यावरण के भी अनुकूल है।

loading...