Breaking News
  • आईसीसी महिला विश्व टी-20 चैम्पियनशिप के अंतिम ग्रुप मुकाबले में भारत का सामना ऑस्ट्रेलिया से
  • जममू-कश्मीर: पंचायत चुनाव के पहले चरण के लिए वोटिंग, जम्मू-21, घाटी-16 और लद्दाख के 10 ब्लॉको में वोटिंग
  • प्रधानमंत्री मोदी का मालदीव दौरा, नवनिर्वाचित राष्ट्रपति सोलिह के शपथ ग्रहण समारोह

मोदी की बुलेट ट्रेन पर लगी लगाम: गुजरात में ही शुरू हुआ बड़ा आन्दोलन?

सूरत: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सबसे बड़ी महत्वाकांक्षी अहमदाबाद मुंबई परियोजना पर बड़ा घमासान छिड़ गया है। परियोजना को लेकर जमीन अधिग्रहण करने को लेकर सूरत में किसानों ने आन्दोलन शुरू कर दिया है। किसान किसी भी कीमत पर अपनी जमीन नहीं देना चाहते हैं।

बतादें कि पीएम नरेंद्र मोदी की अहमदाबाद और मुंबई के बीच बुलेट ट्रेन परियोजना खटाई में पड़ चुकी है। परियोजना को लेकर की जा रही जमीन अधिग्रहण को लेकर किसानों ने आन्दोलन शुरू कर दिया है। गुजरात के सूरत में किसानों ने सरकार की जमीन अधिग्रहण की नीति पर सवाल उठाते हुए प्रदर्शन कर सरकार के नाम ज्ञापन सौंपा है। सोमवार और मंगलवार को सूरत जिले के किसान सड़कों पर उतरकर इस परियोजना के लिए जमीन अधिग्रहण के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। सूरत जिले के 15 गांवों के सैकड़ों की संख्या में जिला मुख्यालय पहुँच कर लोगों ने सरकार द्वारा जमीन अधिग्रहण के तरीकों के खिलाफ बिगुल फूंक दिया है।

किम से दोस्ती निभाने के लिए ट्रंप ने लिया एक और बड़ा फैसला

किसान नेताओं ने प्रशासन को जमीन अधिग्रहण को लेकर 14 आपत्तियां दर्ज कराई हैं। विरोध कर रहे किसान नेता जयेश पटेल ने कहा कि, इस पीएम नरेंद्र मोदी की इस बुलेट ट्रेन परियोजना को सूरत से निकालने के लिए 21 गांवों को तबाह किया जा जा रहा है? यहाँ 21गाँव की 140 हेक्टेयर जमीन अधिग्रहण करने के लिए सरकार दमननीति अपनाने पर तुली है। किसानों का आरोप है कि, 'अनिवार्य पर्यावरण संबंधी और सामाजिक प्रभाव का मूल्यांकन किए बगैर जमीन अधिग्रहण की अधिसूचना जारी की गई।'

बिहार: डीजे पर बजा 'हम पाकिस्तानी मुजाहिद हैं, फाड़ कर रख देंगे...

साथ ही अधिग्रहण की सुचना से पहले अधिग्रहण की जाने वाली जमीन की बाजारी कीमत की भी घोषणा नहीं की। जयेश पटेल ने कहा, 'पश्चिमी रेलवे के पास इस परियोजना के लिए पर्याप्त जमीन है जिससे बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए आसानी से जमीन उपलब्ध हो सकती है।' किसान नेता ने कहा कि हमारे बसे बसाये घरों को उजाड़ा जा रहा है। किसानों ने कहा कि जबरदस्ती तरीके से किसी भी हाल में जमीन नहीं ले सकती है।

यह भी देखें-

loading...