Breaking News
  • महाराष्ट्र: बुलढाणा में 6 साल की मासूम का उत्पीड़न
  • दिल्ली: केंद्रीय खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह ने की IOC प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात
  • आईपीएल-11: राजस्थान को हराकर कोलकाता ने दर्ज की तीसरी जीत

Unknown story: शराब ने इस एक्ट्रेस को बना दिया वेश्या- मरने के बाद हुआ सबसे बड़ा कांड!

मुंबई: पुराने जमाने की मशहूर अभिनेत्री ‘विमी’ शायद आज की युवा पीढ़ी न जानती हो, लेकिन वह अपने जमाने की स्टार अभिनेत्रियों में से एक थी। ऐसा कहा जाता है कि वह अपनी पहली फिल्म से रातो-रात स्टार बन गई थी।

1967 में रिलीज हुई सुनील दत्त की सुपरहिट फिल्म हमराज आज भी खुब पसंद किया जाता है, ऐसे में अगर गाने की बात की जाए तो इस फिल्म के गाने आज के युवाओं को भी काफी पसंद आते हैं, यही कारण है कि आप या आपके साथ रहने वाले लोग अक्सर इन गानों को गुनगुनाते रहेते हैं।

इस फिल्म में राजकुमार, सुनील दत्त, मुमताज के साथ-साथ विमी भी दिखी, इसी फिल्म ने विमी को रातों-रात स्टार बना दिया था, लेकिन शराब ने इनकी जिंदगी में जहर घोल दिया, और फिर विमी का अंत बहुत ही दुखत हुआ। उन्हें अपनी जिवन में कई तरह के जटिल समस्याओं का सामना करना पड़ा।

कहा जाता है कि बॉलीवुड में कदम रखने के कुछ साल बाद ही विमी की माली हालत तंग होने लगी। इस क्रम में मुंबई आने के बाद विमी ने एक टेक्स्टाइल इंडस्ट्री भी शुरु किया था, लेकिन इसमें उन्हें काफी घाटा लगा, यहां तक की उन्हें कर्ज के कारण अपना बंगला भी छोड़ना पड़ा।

विमी की कामयाबी के पिछे सबसे बड़ा हाथ म्यूजिक डायरेक्टर रवि को दिया जाता है। खबरों के अनुसार इंडस्ट्रियलिस्ट शिव अग्रवाल की पत्नि और दो बच्चों की मां विमी से उनकी मुलाकात कोलकाता में एक पार्टी के दौरान हुई थी। इसके बाद रवि ने विमी को मुंबई बुला लिया और यहां उनकी मुलाकात डायरेक्टर बी. आर. चोपड़ा से कराई। इस दौरान चोपड़ा ने उन्हें अपनी फिल्म ‘हमराज’ में मुख्य अभिनेत्री के किरदार के लिए साइन कर लिया। जिस फिल्म में इन्हें सुपरस्टार बना दिया।

बताया जाता है कि विमी के मुंबई जाने के फैसले से इनके सास-ससुर नाराज हो गए और इनके पति शिव को अपनी जायदात से बेदखल कर दिया। तब विमी ने अपने दोनों बच्चों को कोलकाता में छोड़कर अपने पति के साथ मुंबई में शिफ्ट हो गई। लेकिन व्यापार में नुकसान के कारण उनकी माली हालत तंग होने लगी जिसके बाद अपने बंगले को छेड़कर साधारण तरीके से जिंदगी जीने लगी।

विमी के पतन में इनके पति शिव का बड़ा हाथ रहा, क्योंकि शिव को शराब की गहरी आदत लग गई, जिसके कारण शिव ने विमी को छोटे प्रोड्यूसर्स के साथ काम करने का दबाव भी बनाने लगे, जिसके कुछ दिनों के बाद इन दोनों का विवाद और बढ़ गया, तब इन दोनों का तलाक हो गया।

पति अलग होने के बाद दबाव के कारण विमी को भी शराब की लत लग गई, लेकिन तंगी के कारण खर्च चला पाना इतना आसान नहीं है। कुछ खबरों की माने तो अपने खर्चे को पूरा करने के लिए इस दौरान विमी वेश्यावृत्ति की चपेट में भी आ गईं। जिसके बाद उनका करियर तो खत्न हो ही गया, तो इधर शराब की लत से उनका लीवर भी बर्बाद कर दिया।

कहा जाता है कि इस बीच एक समय ऐसा भी आया जब पैसों के कारण उनके इलाज में भी समस्या आने लगी। जानकारी के अनुसार अपने जिवन के अंतिम दौर में वह मुंबई के नानावटी अस्पताल के जनरल वॉर्ड में भर्ती थीं,जहां 22 अगस्त 1977 को उनकी मौत हो गई। कहा तो यहा तक जाता है कि मरने के बाद उन्हें कोई कंधा देने वाला भी नहीं था, जिसके कारण उनकी लाश को एक चाय वाले के ठेले पर रख कर श्मशान घाट पहुंचाया गया।

loading...