Breaking News
  • तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के प्रमुख के.चंद्रशेखर राव दूसरी बार बने मुख्यमंत्री
  • बीजेपी की संसदीय दल की बैठक, पीएम मोदी भी शामिल
  • जम्मू-कश्मीरः सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच बारामुला में मुठभेड़, दो आतंकी ढेर
  • संसद पर हुए आतंकी हमले की 17वीं बरसी, शहीदों को दी जा रही है श्रद्धांजलि

इस सुपरस्टार पर लोगो ने किया ईट, पत्थरों से हमला

बक्सर: बिहार के बक्सर के डुमराव में आयोजित स्टेज शो के दौरान उपद्रवियों ने जानबूझकर भोजपुरी के सुपरस्टार नायक और गायक पवन सिंह की गाड़ी और कलाकारों के दल पर ईंट पत्थरों से हमला किया। कुर्सियां तोड़ी, भारी तोड़फोड़ किया। सुरक्षाकर्मियों की मुस्तैदी से पवन सिंह बाल बाल बचे पर उपद्रवियों ने उनकी गाड़ी तथा उनकी टीम की गाड़ी का तोड़फोड़ किया। इस हादसे में पवन सिंह का सिर फटने से बचा है। उनके दोस्त की गाड़ी थी, जिसे काफी क्षति पहुंची है। विदित हो कि कार्य के प्रति सजग पवन सिंह ने एक ही दिन में दो शो किया, फिर बॉस के सेट पहुंच कर शूटिंग भी किया। उन्होंने सुबह फिल्म बॉस की शूटिंग किया, फिर पटना जाकर बिग गंगा का शो किया। वहां से डुमराव में शो करने पहुंचे, जहां पर उपद्रवियों की वजह से शो बंद करना पड़ा। किसी तरह से बाल बाल बचकर पवन सिंह वापस फिल्म बॉस के सेट पर बनारस पहुंचे।

इस घटना के बाद पवन सिंह ने कहा कि हम कलाकार हैं, हमारी कोई जाति नहीं होती है। हम सबके हैं और सब हमारे हैं। हम किसी का नाम नहीं ले सकते हैं। दर्शकों के प्यार, दुलार, आशीर्वाद ने मुझे फर्श से अर्श तक पहुंचाया है। विरोधी चाहे लाख कोशिश कर लें पर हम अपने दर्शकों के बीच जाना जारी रखेंगे। उन्होंने कहा कि मुट्ठी भर लोग मुझे अपने पथ से डिगा नहीं सकते हैं। मुझे जो कुछ भी मिला है, वह  सब भोजपुरिया दर्शकों के प्यार, दुलार, आशीर्वाद के बल पर ही मिला है। सभी श्रोता और दर्शक का मेरे ऊपर कर्ज है और वह इस कर्ज को मैं आजीवन चुकाता रहूंगा। उन्होंने कहा कि पूरे बिहार में इस तरह का माहौल बनाया जा रहा है कि कलाकार दर्शकों के बीच नहीं जायें। इसकी उच्च स्तरीय जांच-पड़ताल होनी चाहिए।

गौरतलब है कि पवन सिंह पर हुए जानलेवा हमले के बाद भाजपा कला संस्कृति प्रकोष्ठ के अध्यक्ष बरुण कुमार सिंह ने इस घटना की निंदा करते हुए कहा कि पवन सिंह भोजपुरी के सर्वश्रेष्ठ कलाकार है, साथ ही साथ एक उम्दा इंसान भी हैं। उन्हें हर संभव सुरक्षा मुहैया कराने के लिए हम मुख्यमंत्री को पत्र लिखेंगे, साथ ही साथ उन्होंने उपद्रवियों को सचेत करते हुए कहा कि कलाकार किसी जाति या धर्म का नहीं होता वह तो बस कला का पुजारी होता है और जो लोग बिहार का नाम पूरी दुनिया में रोशन कर रहे हैं। उनके मान सम्मान के लिए हम सदैव तत्पर हैं।

loading...