Breaking News
  • राजस्थान: अमित शाह का ऐलान, वसुंधरा राजे होंगी सीएम उम्मीदवार
  • GST काउंसिल ने घटाई दरें, 100 से ज्यादा सामान होंगे सस्ते, सैनिट्री नैपकिन अब टैक्स फ्री
  • दक्षिण कश्मीर के कुलगाम जिले में 3 आतंकी ढेर, मुठभेड़ की जगह से हाथियार बरामद

इमरजेंसी लेसन: अब आपके बच्चे पढ़ेंगे कांग्रेस का 'काला' अध्याय

नई दिल्ली: केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने आपातकाल के बारे में जानकारी और उन्हें आपातकाल के दौरान हुए मानवीय मूल्यों के हनन की पटकथा अब बच्चों को पढ़ाने का फैसला लिया है। इस बारे में मानव संसाधन मंत्री ने मंगलवार को ऐलान करते हुए यह जानकारी दी है।

बतादें कि मंगलवार को आपातकाल के 43 साल पूरे होने पर पीएम नरेंद्र मोदी ने तत्कालीन इंदिरा सरकार की आलोचना करते हुए इसे महज आपातकाल ही नहीं विचारों का दमन भी बताया था। वहीँ मंगलवार को ही केंद्र सरकार ने एक बड़ी घोषणा करते हुए फैसला लिया है कि अब स्कूलों में भी आपातकाल का पाठ पढ़ाया जाएगा। मंगलवार को केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावडेकर ने जानकारी देते हुए कहा कि, आपातकाल देश पर बड़ा धब्बा था। इसके बारे में भावी पीढ़ी को जानकारी होनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा है कि, एक व्यक्ति की सत्ता लोलुपता के कारण देश में आपातकाल लागू किया गया। राजनीति फायदे के लिए लोगों के अधिकार छीन लिए गये। ऐसे में भारत आने वाली पीढ़ी को कांग्रेस द्वारा देश पर लगाए गये आपातकाल की जानकारी होनी चाहिए। उन्होंने ऐलान करते हुए कहा है कि अब आपातकाल को पाठ्यक्रमों में शामिल किया जाएगा और स्कूल कांलेज में पढ़ाया जाएगा ताकि युवा पीढ़ी को पता लग सके कि आपातकाल का दौर कैसा था और किस प्रकार मानवीय मूल्यों पर प्रहार किया गया है। वहीँ इससे पूर्व मंगलवार को सुबह पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर आपातकाल को डार्क पीरियड बताया था।

इस मामले में है भारत दुनिया का सबसे खतरनाक मुल्क!

ट्वीट में लिखा था कि, 'राजनीतिक शक्ति के लिए सिर्फ जनता ही नहीं बल्कि विचारों की आजादी को भी बंधक बनाया गया।' आगे लिखा, 'मैं सभी पुरुषों और महिलाओं के जज्बे को सलाम करता हूं, जिन्होंने आपातकाल का पुरजोर विरोध किया।' 43 साल पहले लागू किए गए आदेश को भारत काले दौर के तौर पर याद रखेगा।

विपक्षी दल के नेता की हत्या: सीएम बिप्लब ने उठाया बड़ा कदम

उन्होंने इसे डार्क पीरियड बताते हुए कहा कि इसे कभी भुलाया नहीं जा सकता है। आज के ठीक 43 साल पहले यानी की 26 जून को 1975 को भारत की प्रधानमन्त्री इंदिरा गाँधी ने देश पर आपातकाल थोप दिया था। जिसके बाद इसे जबरदस्त तरीके से विरोध हुआ और इसी दौरान उन्होंने अपने विरोधियों को चुन चुन कर जेल में भरना शुरू करवा दिया था। लेकिन तमाम यातनोँ के बाद भी जनता के विरोध की जीत हुई और कांग्रेस को इसका खामियाजा अपनी सत्ता गंवाकर चुकाना पड़ा। 21 मार्च 1977 को देश से आपातकाल का अंत हो गया।

यह भी देखें-

loading...