Breaking News
  • बिहारः मुठभेड़ में खगड़िया के पसराहा थाना अध्यक्ष आशीष कुमार सिंह शहीद
  • J-K: पुलवामा में सुरक्षा बलों ने हिजबुल के एक आतंकी को मार गिराया
  • दिल्ली में आज पेट्रोल की कीमत 82.66 रुपए प्रति लीटर, डीजल 75.19 रुपए प्रति लीटर
  • J-K:स्थानीय निकाय चुनाव के लिए तीसरे चरण की वोटिंग जारी

इस दिन मनाया जाएगा ‘सर्जिकल स्ट्राइक दिवस’- यूजीसी का आदेश

नई दिल्ली: देश के सभी यूनिवर्सिटीज और हायर एजुकेशनल इंस्टीट्यूट में 29 सितंबर को सर्जिकल स्ट्राइक दिवस’ मनाया जाएगा। ये आदेश हमारा नहीं बल्कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग यानी यूजीसी का है। जिसने सभी यूनिवर्सिटीज और हायर एजुकेशनल इंस्टीट्यूट को इसके लिए दिशा निर्देश जारी किए हैं।

हालांकि यूजीसी का यह फैसला विवदों में घिरता दिख रहा है। आयोग के इस फैसले की आलोचना करते हुए कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने ट्वीट कर कहा कि  यूजीसी लोगों को शिक्षित करने के लिए बना है या बीजेपी के राजनीतिक हित साधने के लिए?  उन्होंने कहा कि क्या यूजीसी 8 नवंबर को गरीबों का निवाला छीनने के सर्जिकल स्ट्राइक दिवस के रूप में मनाने की हिम्मत कर सकेंगे?

आपको बता दें कि 8 नवंबर वो दिन जब साल 2016 में केंद्र की सत्ता पर काबिज नरेंद्र मोदी सरकार ने देश भर में नोटबंदी लागू किए जाने का ऐलान किया था। सरकार के इस फैसले के तहत देश में पांच सौ और एक हजार के पुराने नोट बंद कर दिए गए थे।

यूजीसी ने क्या कहा

आपको बता दें कि 29 सितंबर को भारतीय सेना ने पाकिस्तान सेना को चकमा देते हुए सीमा में घुसकर आतंकियों के खिलाफ बड़े अभिनायन को अंजाम दिया था, जिसमें काफी संख्या में आतंकी मारे गए थे। लिहाजा यूजीसी ने इस दिन को सर्जिकल स्ट्राइक डे के तौर पर मना कर सशस्त्र बलों को सम्मान देने का निर्देश दिया है।

सुपरवाइजर ने मजदूर के प्राइवेट पार्ट में पंप से भर दी हवा, 16 दिन बाद मौत

आयोग के अनुसार इस दिन सेना के बलिदान के बारे में पूर्व सैनिकों से संवाद सत्र का आयोजन किया जा सकता है,  विशेष परेड और  प्रदर्शनियों के आयोजन के साथ-साथ सशस्त्र बलों को अपना समर्थन देने के लिए उन्हें ग्रीटिंग कार्ड भेजने जैसे अन्य कई तरह की गतिविधियां का आयोजन किया जा सकता है।

बिजली विभाग की 1 गलती और 6 की मौत, लाठी-डंडों के साथ ग्रामीणों ने बोला हमला

समाचार एजेंसी के अनुसार, आयोग ने सभी कुलपतियों को पत्र लिख कहा है कि, विश्वविद्यालयों की एनसीसी इकाइयों को 29 सितंबर को विशेष परेड का आयोजन करना चाहिए और साथ ही एनसीसी के कमांडर सरहद की रक्षा के तौर-तरीकों के बारे में उन्हें संबोधित करें। आयोग ने कहा कि विश्वविद्यालय सेना के बलिदान के बारे में छात्रों को संवेदनशील करने के लिए कार्यक्रम का आयोजन कर सकते हैं। ऐसे कार्यक्रमों में पूर्व सैनिकों को शामिल कर छात्रों के साथ संवाद सत्र का आयोजन कर सकते हैं।

सीमा पर संग्राम और अमेरिका में भारत-पाकिस्तान की मुलाकात!

loading...