Breaking News
  • मुंबई में भारी बारिश से जनजीवन प्रभावित, अगले 24 घंटे भारी बारिश की चेतावनी
  • पंजाब के संगरूर में पटाखा गोदाम में आग लगने से कम से कम 5 लोगों की मौत
  • मेक्सिको में आए भूकंप में स्कूली इमारतें ढहने से 21 बच्चों की हुई मौत: मीडिया
  • संयुक्त राष्ट्र की बैठक में ट्रंप ने कहा उत्तर कोरिया को पूरी तरह से करेंगे नष्ट

पाकिस्तान के हिरो थे रफीक साबिर- लाहौर से मुंबई आकर जिन्ना के घर में घुस कर किया था हमला...

लाहौर: भारत का पड़ोसी देश पाकिस्तान आज अपना 70वां स्वतंत्रता दिवस मनाया है, इस अवसर पर देश के अगल-अलग जगहों पर तरह तरह के कार्यक्रमों का आयोन किया गया है। इस साल स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर पाकिस्तान में लाहौर के पास वाघा...अटारी सीमा पर 400 फुट की ऊंचाई पर झंडा फहराया गया है। लेकिन आज हम आपको भारत-पाकिस्तान बंटवारें को लेकर एक खास जानकारी देने जा रहे हैं।

मोहम्मद अली जिन्ना और गांधी जी

दरअसल आज एक ऐसे पाकिस्तानी की बात करने जा रहे हैं जो भारत-पाकिस्तान विभाजन के खिलाफ रहने वाले स्वतंत्रता सेनानियों में एक थे। शायद ही आप खान सिद्दिकी अल हिन्दी के नाम से मशहूर मोहम्मद रफीक साबिर के बारे में ज्यादा कुछ जानते होंगे। मोहम्मद रफीक साबिर मूल रूप से लाहौर के रहने वाले थे।

उनके पिता वहां पर उमरदीन लाहौर की जिला अदालत में मुंशी हुआ करते थे। मोजअ कोट अब्दुल्लाह मजंग के रहने वाले थे, यह इलाका आज भी पाकिस्तान में प्रसिद्ध पीर अब्दुल अजीज के नाम से जाना जाता है। आजादी की लड़ाई में इन्होंने सबसे पहले मुस्लिम लीग और उसके बाद अन्य लोगों के साथ जुड़कर बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। इस समय कांग्रेस और मुस्लिम लीग के रूप में दो ही दल हुआ करते थे।

इनकी कहानी वैसे तो कांपी लंबी है, लेकिन आजा आजदी की बात की चर्चा हो रही है तो बता दें कि मोहम्मद रफीक साबिर भारत विभाजन के घोर विरोधी स्वतंत्रता सेनानी थे। उन्होंने मुसलिम लीग प्रमुख और पाकिस्तान के कायदे आजम मोहम्मद अली जिन्ना को भारत विभाजन कर पाकिस्तान की मांग करने के कारण देश की आजादी में सबसे बड़ा दुश्मन माना था और मुंबई में उनके घर पर चाकू से हमला कर उन्हें जान से मारने की कोशिश भी की थी।

खान सिद्दिकी का मानना था कि कायदे आजम जिन्ना हिंदुस्तान की आजादी के रास्ते में रुकावट के साथ-साथ अंग्रेजी साम्राज्य के हाथ में एक खिलौना है। वे मानते थे कि उस समय सबसे ज्यादा जरूरत आजादी की थी, जबकि जिन्ना आजादी के साथ-साथ, इससे ज्यादा देश को दो टुकड़ों में बांटने की कवायद करने में लगे थे।

जानकारी के अनुसार उन्होंने 26जुलाई 1943 को मुम्बई में तत्कालीन मुस्लिम लीग के प्रमुख मोहम्मद अली जिन्ना के घर में घुस कर चाकू से हमला किया था, जिन्ना को मारने के लिए 25 साल के साबिर लाहौर से मुंबई गए थे, लेकिन इनके हमले से जिन्ना बच गए, उनकी गर्दनऔक कलाई पर हल्की चोट पहुंची थी।

loading...