Breaking News
  • कोलकाता में ममता की महारैली में जुटा मोदी विरोधी मोर्चा, केजरीवाल, अखिलेश समेत 20 दिग्गज नेता
  • रूसी तट के पास गैस से भरे 2 पोत में आग लगने से 11 की मौत, 15 भारतीय भी थे सवार
  • जम्मू-कश्मीर: भारी बर्फबारी के बीच सुरक्षाबलों का ऑपरेशन ऑल आउट, 24 घंटे में 5 आतंकी ढेर
  • वाराणसी: 15वे प्रवासी सम्मेलन में पीएम मोदी, लोग पहले कहते थे कि भारत बदल नहीं सकता. हमने इस सोच को ही बदल डाला
  • नेपाल ने लगाया 2000, 500 और 200 रुपए के भारतीय नोटों पर बैन

छात्रा ने पहन रखे थे ऐसे कपड़े कि उसे यूजीसी-नेट परीक्षा नहीं देने दिया गया

नई दिल्ली: छात्रा के पहनावे से जुड़ा एक और विवाद सामने आया है। इस नये मामले में जामिया मिलिया इस्लामिया की एक छात्रा का आरोप है वह गुरुवार को यूजीसी-नेट परीक्षा देने पहुंची थी, लेकिन उसे परीक्षा नही देने दिया गया, क्योंकि उने हिजाब पहनने रखा था।

एमबीए की छात्रा उम्मैया खान ने बताया कि जब वह रोहिणी इलाके में बने परीक्षा सेंटर पर परीक्षा देने पहुंची तो उससे कहा गया कि उसे हिजाब उतारना होगा। अपनी बात कहते हुए छात्रा ने सोशल मीडिया पर एक ट्वीट किया है। जिसके माध्यम से उसने बताया कि, संविधान में साफ लिखा है कि हम किसी भी धर्म का पालन करने के लिये स्वतंत्र हैं।

दो हसिनाओं के साथ डांस प्लस में पहुंचे शाहरुख, यहां एक तीसरी हसीना के …

छात्रा ने आरोप लगाया कि, संविधान में मिले अधिकार के बाद भी इन अतिराष्ट्रवादी सरकारी कर्मियों ने मुझे नेट जेआरएफ की 20 दिसंबर, 2018 को हुई परीक्षा में शामिल नहीं होने दिया क्योंकि मैं उन्हें समझा रही थी कि मुझे अपना सिर ढकने की अनुमति दी जाए और ये मेरे धर्म में है।

ईशा गुप्ता ने फिर मचाया तहलका, फोटोशूट के दौरान खोल दिए पूरे कपड़े!

इस पूरे मामले को लेकर जामिया के मानद निदेशक और प्रोफेसर डॉ. अमीरूल हसन ने बताया कि इस बारे में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) को पत्र लिखा गया है। वहीं दूसरी तरह सोशल मीडिया पर छात्रा का समर्थन करते हुए काफी संख्या में लोग अपनी बात कह रहे हैं।

कैसे हुई थी प्रियंका चोपड़ा के पिता की मौत, शादी में कमी खल रही थी!

loading...