Breaking News
  • कश्मीर घाटी, लद्दाख में कड़ाके की शीतलहर जारी
  • पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़ोतरी, कच्चे तेल में नरमी
  • लोकसभा में सत्ता पक्ष, विपक्ष का हंगामा
  • पर्थ टेस्ट : 146 रन से हारा भारत, आस्ट्रेलिया ने की सीरीज में 1-1 से बराबरी
  • चक्रवाती तूफान Pethai Cyclone आज आंध्र प्रदेश के तट से टकराएगा

Inside Story: 2 पत्नी के इकलौते पति थे स्टीफन हॉकिंग- इनकी ये बात कर सकती हैं हैरान...

लंदन: ब्लैक होल और सापेक्षता के क्षेत्र में अभूतपूर्व योगदान देने वाले दुनिया महान ब्रिटिश वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग समय को रोक कर खुद दुनिया छोड़ कर चले गए। एक उन्होंने कहा था कि सालों से मौत का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन अभी उन्हें मरने की कोई जल्दी नहीं है।

स्टीफन हॉकिंग का निधन उनके कैम्ब्रिज स्थित पर 76 साल की उम्र में हुई है। महान वैज्ञानिक की मौत की पुष्टि उनके परिजनों ने की है। हॉकिंग के निधर पर पूरी दुनिया में शोक की लहर है। इनके निधन पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी शोक व्यक्त किया है।

इन सभी अधूरे कामों को पूरा करना चाहते थे स्टीफन हॉकिंग

प्रख्यात वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग को श्रद्धांजली देते हुए आज आपको इनके जीवन से जुड़ी कुछ ऐसी बाते बता रहे हैं, जिसे जान आप हैरान भी हो सकते हैं। इस क्रम में आपको सबसे पहले बता दें कि हॉकिंग का जन्म 8 जनवरी 1942 को हुआ था और उनका निधन 14 मार्च 2018 को हुआ है। 1942 में जन्में हॉकिंग को 1963 में ही मोटर न्यूरॉन बीमारी ने अपनी जकड़ में ले लिया था।

इस बीमारी के बाद उन्हें बताया गया था कि वह सिर्फ दो साल तक की बच सकते हैं, लेकिन इसके बाद भी हॉकिंग ने मौत की परवाह किए बिना बकैम्ब्रिज पढ़ने चले गए। उनकी गिनती अल्बर्ट आइंसटीन के बाद सबसे बड़े भौतिकविदों में होती है।

स्टीफन हॉकिंग के जीवन पर बनी है ये फिल्म

उन्होंने "ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम" सहित अनेक लोकप्रिय किताबे भी लिखीं, जिन्हें पढ़ कर कई अन्य लोग भी वैज्ञानिक बन गए। इस पुस्तक की एक करोड़ से ज़्यादा प्रतियां बिक चुकी हैं और इसका चालीस अलग-अलग भाषाओं में अनुवाद हो चुका है।

स्टीफन हॉकिंग को अल्बर्ट आइंसटीन पुरस्कार, वुल्फ पुरस्कार, कोपले मैडल और फंडामेंटल फिजिक्स पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। इनके नाम पर साल 2014 में आई "द थ्योरी ऑफ एवरीथिंग" नाम से एक फिल्म भी बनी जो उनके जीवन का बखान करता है।

अमेरिका: रेक्स टिलरसन की हुई छुट्टी, अब यह होंगे US के नये विदेश मंत्री

आपको बता दें कि साल 1974 में हॉकिंग ने दुनिया को अपनी सबसे महत्वपूर्ण खोज ब्लैक होल थिअरी के बारे में समझाया। उन्होंने बताया कि ब्लैक होल क्वॉन्टम प्रभावों की वजह गर्मी फैलाता हैं। इसके करीब पांच साल बाद ही वह कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में गणित के प्रफेसर बन गए।

यह वही पद था जिस पर कभी महान वैज्ञानिक ऐलबर्ट आइनस्टाइन नियुक्त थे। हॉकिंग ऐसी बीमारी से ग्रसित थे कि उनका शरीर धीरे-धीरे काम करना बंद कर दिया था। वह अपने पैरों चल फिर भी नहीं सकते थे और हमेशा वील चेयर पर ही रहते थे। मुंह से बोलपाने में नाकम होने के बाद उन्होंने कम्प्यूटर और अन्य कई तरह के डिवाइसों के मदद से अपनी बात और खोज लोगों तक पहुंचाते रहे हैं।

बता दें कि आम तौर पर लोगों इसलिए अच्छे कर्म करते हैं, ताकि उन्हें स्वर्ग में जगह मिले, लेकिन स्टीफन हॉकिंग ने स्वर्ग की परिकल्पना को सिरे से खारिज करते हुए कहा था कि यह अंधेरे से डरने वाली कहानी है। उन्होंने कहा था कि हमारा दिमाग एक कम्प्यूटर की तरह है और जब इसके पुर्जे खराब हो जाएंगे तो यह काम करना बंद कर देगा।

इसी बात को आधार बनाते हुए उन्होंने कहा था कि खराब हो चुके कम्प्यूटरों के लिए स्वर्ग में कोई जगह या जीवन नहीं है, स्वर्ग सिर्फ अंधेरे से डरने वालों के लिए बनाई गई कहानी है। साल 1998 में उनकी एक 'अ ब्रीफ हिस्ट्ररी ऑफ टाइम' किताब आई जिसने पूरी दुनिया में धमका कर दिया।

अपने इस किताब के माध्यम से उन्होंने ब्रह्मांड विज्ञान के मुश्किल विषयों की गहन जानकारी दी। उन्होंने अपनी किताब में 'बिग बैंग थिअरी' और ब्लैक होल को एक दम सरल तरीके से समझाया। इस किताब की लाखों कॉपी यू ही बिक गई।  हालांकि उन्होंने अपने किताब में ईश्वर के अस्तित्व को नकारा था, जिसके लिए उन्हें विरोध का भी सामना करना पड़ा।

मौत से पहले हाल ही में उन्होंने बताया था कि जिस तर से दुनिया में लोगों की आबादी बढ़ रही है और ऊर्जी की खपत में तेजी आ रही, अगर ऐसा ही चलता रहा इससे बढ़ रही है, उस तरह से 600 सालों से भी कम समय में यह धरती आग के गोला में बदल जाएगी।

पिछले दिनों स्टीफन हॉकिंग का पीएचडी शोधपत्र सार्वजनिक किया गया था, जिसे उन्होंने 1966 में पूरा किया था। इस शोध को कुछ ही समय में 20 लाख से अधिक लोगों ने देखा, जिसके कारण कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी की वेबसाइट भी ठप पड़ गई थी। बता दें कि हॉकिंग एक टाइम मशीन बनाना चाहते थे।

साल 1974 में हॉकिंग ने भाषा की छात्रा जेन विल्डे से शादी की थी, जिनसे उनके तीन बच्चे हुए, लेकिन साल 1999 में उनका तलाक हो गया, जिसके बाद न्होंने दूसरी शादी की थी। एक बार उन्होंने कहा था कि अगर वह ऐसा कर पाते तो वह हॉलिवुड की सबसे खूबसूरत अदाकारा मानी जाने वाली मर्लिन मुनरो से मिलने जाते।

loading...