Breaking News
  • 18वां कारगिल विजय दिवस आज- शहीद सैनिकों को नमन कर रहा है देश
  • फसल बीमा से जुडी कम्पनियाँ नुकसान का फ़ौरन आंकलन करें- मोदी
  • पाकिस्तानी आतंकवादी मोहम्मद कोया को कर्नाटक कोर्ट से 7 साल की सजा
  • भारत-श्रीलंका के बीच पहला टेस्ट मैच गाले में आज रंगना हेराथ संभालेंगे कप्तानी, चांदीमल बाहर
  • बाढ़ प्रभावित गुजरात में हवाई सर्वेक्षण के बाद पीएम ने किया 500 करोड़ का ऐलान
  • राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल का चीन दौरा- BRICS देशों की बैठक में लेंगे हिस्सा

इग्नू ने लिया बड़ा फैसला, अब ‘इनको’ मिलेगी बिल्कुल फ्री शिक्षा


इस मंदिर में चोरी करने ले पूरी होती हैं मुरादें!

नई दिल्ली: देश में ट्रांसजेंडर की स्थित और दशा को सुधारने के लिए सरकारें बड़े बड़े प्रयास कर रही हैं। वहीँ देश की अब जानी मानी इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (इग्नू) ने भी ट्रांसजेंडर कीके लिए बड़ा फैसला लिया है। इग्नू ने ट्रांसजेंडर की पढ़ाई के लिए के फैसला लिया है। जिसमें ट्रांसजेंडर को मुफ्त शिक्षा की व्यवस्था की गयी है।

बतादें की देश में ट्रांसजेंडर को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार से लेकर बड़े बड़े संस्थान तक योजनायें और कार्यक्रमों के जरिये ट्रांसजेंडर को मजबूत और मुख्य धरा में लाने के लिए प्रयास कर रही हैं। ऐसे में देश की जानी मानी यूनिवर्सिटी इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (इग्नू) ने भी एक सराहनी फैसला लिया है। इग्नू ने ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों को फ्री में पढ़ाई की सुविधा देने के साथ साथ अपने किसी भी पसंदीदा प्रोग्राम मे इनरॉल करने की भी सुवोधा दी है। यह फ्री एज्यूकेशन सुविधा देश भर के सभी सेंटरों पर ट्रांसजेंडर के लिए उपलब्ध होगी। इंगु से जानकारी के अनुसार ट्रांसजेंडर को डिप्लोमा, डिग्री और सर्टिफिकेट कोर्स के लिए यूनिवर्सिटी में साल में दो बार एडमिशन का मौके दिए जाएंगे।

आमिर खान की दंगल की कमाई पर खुलासा- आमिर के ‘प्रवक्ता’ ने दिया बयान

कोर्स के लिए अप्लाई करने के लिए आखिरी तारीख 31 जुलाई दी गयी है। इसको लेकर यूनिवर्सिटी के वाइस-चांसलर रवींद्र कुमार ने बताया कि इग्नू की इस मुहीम से ज्यादा से ज्यादा ट्रांसजेंडर प्रोग्राम्स के लिए अप्लाई करेंगे। उन्होंने बताया कि रविवार को नोटिफिकेशन जारी होने के बाद से अब यूनिवर्सिटी के पास 100 के लगभग ट्रासजेंडर्स के एप्लिकेशंस आ चुके हैं।

इस मंदिर में चोरी करने ले पूरी होती हैं मुरादें!

बतादें कि साल 2014 में सुप्रीम कोर्ट द्वारा ट्रांसजेंडर को थर्ड जेंडर की मान्यता दी गयी थी। जिसके बाद से कई ऐसे संस्थानों ने ट्रांसजेंडर को मुख्य धारा में लाने के लिए बड़े बड़े कदम उठाये हैं।

loading...