Breaking News
  • 21 जून को देश समेत दुनिया के अन्य देशों में अनंतराष्ट्रीय योग दिवस
  • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर देहरादून में पीएम मोदी ने करीब 55 हजार लोगों के साथ किया योग
  • अलग-अलग जगहों पर लगे योग शिविर में शामिल हुए नेता और मंत्री
  • कोटा में दो लाख लोगों को 90 मिनट योग सिखाकर बाबा रामदेव ने बनाया नया वर्ल्ड रिकॉर्ड

पटाखा बैन पर औरंगजेब ने क्या कहा था- यहां जानिए

नई दिल्ली: इस साल 2017 में दिल्ली एनसीआर में सुप्रीम कोर्ट द्वार बच्चों के हाथ से फूलझड़ी और पटाखे छिनने के मामले पर देश भर में बहस चल रही है। इसी बीच एक आईएएस अधिकारी ने एक ट्वीट किया है, जिसपर कई लोगो ने प्रतिक्रियादी है।

बता दें कि प्रदूषण की मार झेल रहे दिल्ली एनसीआर में इस साल दिवाली के मौके पर पटाखों की बिक्री पर सुप्रीम कोर्ट ने पाबंदी लगा दी है, जिसपर सिलेब्रिटीज से लेकर आम लोगों भी अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। इसी बीच राजस्थान कैडर के वरिष्ठ अधिकारी संजय दीक्षित ने एक अनोखा पोस्ट किया है।

इस दिवाली दिल्ली में पटाखों का क्या होगा- सुप्रीम कोर्ट का फैसला

बता दें कि अधिकारी ने बीकानेर स्टेट आर्काइव में सुरक्षित रखा गया औरंगजेब का वह फरमान शेयर किया है, जिसमें उसने अपने शासनकाल के दौरन आतिशबाजी पर रोक लगा दिया था। अधिकारी का दावा है कि यह वही मूल फरमान है, जो औरंगजेब ने सुनाया था। साथ में उन्होंने उसका हिंदी अनुवाद भी शेयर किया है।

इस कथित फरमान में  औरंगजेब ने 8 अप्रैल 1667 ई. को फरमाया था कि सूबों के अधिकारियों को लिख दो कि आतिशबाजी पर रोक लगा दें, फौलादखां को भी शाही हुक्म हुआ है कि शहर में ऐसी घोषणा कर दें कि कोई आतिशबाजी न करें।
 

loading...