Breaking News
  • संसद के शीतकालीन सत्र का आज दूसरा दिन
  • मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव: 114 सीटों के साथ कांग्रेस पहले नंबर की पार्टी, भाजपा के खाते में 109
  • विधानसभा चुनाव: जीतने वाली दलों को पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं, जनता को धन्यवाद
  • बीजेपी की नीतियों से जनता दुखी है, यही वजह है कि कांग्रेस जीती: मायावती

भारी-भरकम बैग से निजात देने के लिए जावडेकर ने उठाये कई कड़े कदम, होमवर्क पर भी नियम

नई दिल्ली : भारी-भरकम बैग से बच्चों के स्वास्थ्य पर लगातार पर रहें बुरे असर को देखते हो HRD मिनिस्टर यानि मानव संसाधन मंत्रालय ने कई कड़े कदम उठाये है। स्कूली बच्चों के भारी बैगों को लकेर पिछले कुछ समयों से केंद्र सरकार से लगतार सवाल पूछे जा रहें है। लेकिन अब मानव संसाधन ने इससे छुटकारा पाने का मन बना लिया है। मंत्रालय ने पहली से 10वीं क्लास तक के लिए बच्चों के स्कूल बैग के वजन को निश्चित कर दिया है। जिससे स्कूली बच्चों को इससे होने वाली हेल्थ समस्याओं से छुटकारा मिल जाए। इसके साथ ही बच्चों के होमवर्क को लेकर भी नियम बनाया गया है।

चुनाव से कुछ दिन पहले ही राहुल ने किया अपने गोत्र का खुलासा, कहा मैं ब्राह्मण हूं और...

गौरतलब हैं कि स्कूली बस्तों के भारी भरकम वजन की वजह से बच्चों की कमर पर बुरा असर पड़ रहा था।  बच्चों की सेहत के मद्देनजर सरकार ने ये नई गाइडलाइन जारी की है। HRD मिनिस्ट्री ने सभी राज्यों और केंद्र शासित राज्यों को कहा है कि अब बच्चों के बैग का वजन वही होगा जो मिनिस्ट्री की ओर से तय किया जाएगा। गाइडलाइन में कक्षाओं के अनुसार बच्चों के स्कूल बैग का वजन निर्धारित किया गया है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का पीएम मोदी पर बड़ा हमला, कहा मोदी जी को बोलने की तमीज नहीं

पहली क्लास से दूसरी क्लास के बच्चों के लिए : बैग का वजन 1.5 किलोग्राम ।

तीसरी क्लास से चौथी क्लास के बच्चों के लिए : बैग का वजन 2 किलोग्राम से 3 किलोग्राम।

छठी क्लास से सातवी क्लास के लिए : बैग का वजन 4 किलोग्राम तक।

आठवीं क्लास से नौंवी क्लास के लिए : बैग का वजन 4.5 किलोग्राम तक।

दसवीं क्लास के लिए : बैग का वजन 5 किलोग्राम।

शिवसेना के बाद अब RSS भी हुई राम मंदिर पर सक्रिय, बनाया चार चरणों में यह योजना

इस रिपोर्ट के अनुसार पहली और दूसरी क्लास में पढ़ने वाले बच्चों को होमवर्क देने से मना किया गया है। निर्देश दिए गए हैं कि बच्चों को केवल भाषा और मैथ ही पढ़ाया जाएगा। तीसरी से पांचवी क्लास के बच्चों को भाषा, ईवीएस और मैथ एनसीआरटी के सिलेबस से ही पढ़ाया जाए। कहा गया है कि बच्चे स्कूल में कोई भी एक्सट्रा किताब और कोई भारी सामान लेकर न आएं। इससे उनका बैग भारी हो सकता है।

Video : टीवी के इस एक्ट्रेस ने लगाया Beach में आग, किया ऐसा डांस की मच गया तहलका

Reported by

Amit kumar ranjan

loading...