Breaking News
  • कोलकाता में ममता की महारैली में जुटा मोदी विरोधी मोर्चा, केजरीवाल, अखिलेश समेत 20 दिग्गज नेता
  • रूसी तट के पास गैस से भरे 2 पोत में आग लगने से 11 की मौत, 15 भारतीय भी थे सवार
  • जम्मू-कश्मीर: भारी बर्फबारी के बीच सुरक्षाबलों का ऑपरेशन ऑल आउट, 24 घंटे में 5 आतंकी ढेर
  • वाराणसी: 15वे प्रवासी सम्मेलन में पीएम मोदी, लोग पहले कहते थे कि भारत बदल नहीं सकता. हमने इस सोच को ही बदल डाला
  • नेपाल ने लगाया 2000, 500 और 200 रुपए के भारतीय नोटों पर बैन

बहुत बड़े व्यापारी हैं, भाजपा का कमल 'कीचड़ में दबाने' वाले कमलनाथ- राहुल ने बनाया मुख्यमंत्री

भोपाल: मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में मिली जीत के बाद पिछले कई घंटों से जारी माथापच्ची के बाद राज्य के मुख्यमंत्री का ऐलान कर दिया गया है। इससे पहले दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने मां और बहन प्रियंका गांधी के अलावा कांग्रेस पार्टी के संबंधित नेताओं के साथ मुलाकात कर मुख्यमंत्री पर अंतिम फैसला किया। हालांकि इसका ऐलान भोपाल में विधायक दल की बैठक के बाद किया गया।

देर रात करीब पैने ग्यारह बजे भोपाल में ऐलान किया गया कि कमलनाथ राज्य के मुख्यमंत्री होंगे। इस दौरान मुख्यमंत्री के दूसरे दावेदार ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मौजूद रहे। आपको बता दें कि 72 साल के कमलनाथ राज्य के 18वें मुख्यमंत्री बने हैं। पार्टी द्वारा ऐलान किए जाने के बाद कमलनाथ ने कहा कि वह शुक्रवार सुबह राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे।

कौन हैं कमलनाथ

18 नवंबर 1946 को उत्तर प्रदेश के कानपुर में जन्में कमलनाथ ने देहरादून के दून स्कूल में शुरुआती पढ़ाई की और उन्होंने कोलकाता यूनिवर्सिटी के सेंट जेवियर कॉलेज से बीकॉम की पढ़ाई की है। कांग्रेस पार्टी के दिग्गज नेता होने के साथ-साथ कमलनाथ देश के बड़े कारोबारी भी हैं।

नेहरू-गांधी परिवार के बेहद करीबी रहे कमलनाथ संजय गांधी के बचपन के दोस्त हैं और दोनों दून स्कूल में साथ पढ़ चुके हैं। बता दें कि कमलनाथ द इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट टेक्नॉलजी ए मैनेजमेंट इंस्टीट्यूशन के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स के अध्यक्ष रहे हैं। सितंबर 2011 में कमलनाथ को सबसे धनी केंद्रीय मंत्री बताया गया था।

कमलनाथ के पास 2.73 बिलियन यानी दो अरब 73 करोड़ रुपये से अधिक संपत्ति के मालिक हैं। कमलनाथ की राजनीतिक करियर की बात करें तो उनके नाम नौ बार सांसद चुने जाने का रिकॉर्ड है। मध्य प्रदेश की छिंदवाड़ा लोकसभा सीट से कमलनाथ पहली बार 1980 में सातवीं लोकसभा के लिए सांसद चुने गए थे।

साल 1991 में कमलनाथ पहली बार केंद्रीय मंत्री बने थे। इस दौरान उन्हें पर्यावरण और वन मंत्रालय में केंद्रीय राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार मिला था। साल 1995 से 1996 के बीच वह केंद्रीय कपड़ा राज्य मंत्री रहे। इसके बाद 2001 से लेकर 2004 तक वह कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव रहे।

साल 2004 में मनमोहन सिंह की सरकार में कमलनाथ ने केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री का भार उठाया और साल 2009 तक बने रहे। इसके बाद साल 2009 में फिर से कमलनाथ की जीत हुई और केंद्र में यूपीए-2 सरकार में कमलनाथ सड़क परिवहन मंत्री बने। इसके बाद साल 2011 में कमलनाथ को शहरी विकास मंत्री बनाया गया। इस बीच साल 2012 में कमलनाथ को संसदीय कार्यमंत्री की अतिरिक्त जिम्मेदारी दी गई।

क्या मध्य प्रदेश हार कर दिल्ली जाना चाहेंगे शिवराज? दिया ऐसा जवाब...

रिपोर्ट में हुआ हैरान करने वाला खुलासा, चुने गए सभी नए 40 विधायकों में…

राजस्थान: गहलोत और पायलट की मौजूदगी में मुख्यमंत्री का ऐलान!

loading...