Breaking News
  • कोलकाता में ममता की महारैली में जुटा मोदी विरोधी मोर्चा, केजरीवाल, अखिलेश समेत 20 दिग्गज नेता
  • योगी सरकार के आने के बाद से संगठित अपराधों पर रोक लगी है: राम नाइक
  • अगर मुझे गाजीपुर से टिकट न मिला तो नहीं लड़ूंगा चुनाव- मनोज सिन्हा
  • अयोध्या में राम मंदिर नहीं तो हिंदुओं का वोट नहीं- प्रवीण तोगड़िया
  • पेट्रोल 17 और डीजल 19 पैसे हुआ महंगा

ये है नरक का दरवाजा! 47 सालों से धधक रही है आग

नई दिल्ली:- हमारी दुनिया कई सारी अजीबो गरीब चीजों से भरी हुई है और बहुत से अजूबों के बारें में आपने पहले से ही सुना होगा। लेकिन आज हम आपकी इस लिस्ट में एक और अजूबा जोड़ देते है, जिसे सुनने के बाद आप भी हैरान रह जाएंगे।

ये कहानी है नरक का दरवाजा कहलाने वाला एक बड़े गड्ढे का। जिसमें से पिछले 47 साल से लगातार आग जल रही है और वो भी ऐसी जिसे आज तक कोई भी काबू नहीं कर पाया हैं। वैसे तो नरक की बात आपने बहुत सी धार्मिक ग्रंथों और कहानी किस्सों में सुनी होगी। लेकिन धरती पर जिस जगह पर नरक का दरवाजा कहा गया है वो तुर्कमेनिस्तान में दरवेज शहर में मौजूद हैं।

दरअसल, ये गड्ढा एक गैस का ज्वालमुखी है। जोकि जमीन के अदंर मौजूद मिथेन गैस के चलते 1971 के बाद से लगातार जल रही है। हालांकि ये गड्ढ़ा बना कैसे इसके पीछे भी एक दिलचस्प कहानी हैं।

दरअसल, 1971 में सोवियत के इंजीनियर को एक सर्वे के बाद ये पता चला कि तुर्कमेनिस्तान के दरवेज जगह में जमीन के अंदर भारी मात्रा मेंखनीज तेल मौजूद है और इसी के बारे ज्यादा जानकारी लेने के लिए उन्होंने इस जगह की खुदाई शुरू कर दी। लेकिन खुदाई अभी ज्यादा हुई नहीं थी कि इससे पहले ही पता चल गया कि यहां तेल नहीं बल्कि कुदरती तेल की मौजूद है। और इसी लिए यहां खुदाई काम बंद कर दिया गया।

लेकिन एक दिन इस जगह में एक्सिटेंड हुआ जहां खुदाई किया हुई जगह और पूरी कैंप एक बड़े से गड्ढे मे धस गया। हालांकि इसमें कोई हताहत नहीं हुआ लेकिन इस घटना ने वहां मौजूद इंजीनियर्स को मुश्किल में डाल दिया। क्योकि जो गैस अबतक जमीन के नीचे थी अब वो बाहर आने लगी थी। और जोकि ये गैस इंसानो और हमारे वातावरण के लिए बहुत नुकासनदेय था इस लिए इसे खत्म तो करना ही था। जिसे बाद इसपर रिसर्च शुरू कर दी गई कि इसे रोका कैसा जाए। कुछ दिनों की रिसर्च के बाद ये फैसला लिया गया कि इसमे आग लगा दी जाए, जिससे कि ये कुछ समय बाद जल के अपने आप की खत्म हो जाएगी। और फिर यहां काम कर रहे इंजनियर्स ने यहां आग लगा दी, उनका ये मानना था कि ये आग एक हफ्ते बाद अपने आप भी बुझ जाएगी।

लेकिन यहां पर उन्होंने एक बड़ा गलती कर दी, किस इस गड्ढ़े में उन्होंने बिना गैस की तदाद को चेक किए उसमें आग लगाने का फैसला कर लिया गया। आपको बता दे कि ये जगह दुनिया में सबसे बड़े प्राकृतिक गैस के भड़ांरों में से एक है। दिन, हफ्ते, महिना औऱ साल बितते गए लेकिन आज भी इस गड्ढे में आग धधकते हुए जल रही है।

आपको बता दे कि इस गड़्ढे को देखने के लिए यहां पर हर साल लाखों लोग आते हैं। ये जगह अब एक टूरिस्ट प्लेस में तब्दिल हो चूकी हैं।

loading...