Breaking News
  • बाढ़ और चक्रवात के खतरे में आने वाले ज़िलों में स्वंयसेवकों के प्रशिक्षण के लिए भी 'आपदा मित्र' नाम की पहल की गई है: पीएम
  • पीएम मोदी ने वैज्ञानिकों से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की तकनीक को उपयोगी बनाने का आग्रह किया
  • विदेश सचिव विजय गोखले ने की चीन के वित्त मंत्री से मुलाकात, द्विपक्षीय एजेंडे पर हुई चर्चा
  • मन की बात कार्यक्रम के 41वें संस्करण में बोले पीएम मोदी
  • 54 साल की उम्र में बॉलीवुड एक्ट्रेस श्रीदेवी का निधन
  • भारत की Aruna Reddy ने मेलबर्न Gymnastics World Cup में कांस्य पदक जिता

पहले ही दिन यूपी बोर्ड परीक्षा का बजा बैंड!

लखनऊ: उत्तर प्रदेस में मंगलवार से बोर्ड परीक्षा शुरू हुई है, लेकिन परीक्षा के पहले ही दिन पौने दो लाख से ज़्यादा छात्रों ने परीक्षा छोड़ दी। इस संख्या में परीक्षा छोड़ने वाले छात्रों को लेकर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। हालांकि बोर्ड अधिकारियों का दावा है कि नकल पर सख्ती की वजह से इतनी बड़ी तादाद में छात्रों ने परीक्षा छोड़ी।

आपको बता दें कि परीक्षा के पहले दिन मंगलवार को करीब पहले दिन करीब 1,80,826 छात्र-छात्राओं ने परीक्षा छोड़ दी, तो वहीं करीब 16 छात्र नकल करते पकड़े गए है। बता दें कि पहले दिन सुबह 7.30 से 10.45 बजे की पहली पाली में हाईस्कूल गृह विज्ञान और इंटर साहित्यिक हिन्दी प्रथम प्रश्नपत्र जबकि दोपजर 2 से 5.15 बजे की दूसरी पाली में इंटर सामान्य हिन्दी प्रथम प्रश्नपत्र की परीक्षा थी।

भारत में मुसलमानों का क्या काम, पाकिस्तान या बांग्लादेश जाएं: विनय कटियार

परीक्षा छोड़ने वाले छात्रों की संख्या को अगर पिछले साल परीक्षा छोड़ने वाली छात्रों की संख्या से मिलाया जाए तो यह आकड़ा बेहद ही चौकाने वाला है, क्योंकि इसमें भारी इजाफा हुआ है। दरअसल पिछले साल करीब 1.62 लाख छात्र-छात्राओं ने परीक्षा छोड़ी थी, तो इस साल 2018 में 1,80,826 छात्र-छात्राओं ने परीक्षा छोड़े हैं।

PM की पत्नी जसोदाबेन का एक्सीडेंट- 1 की मौत...

गौर हो कि इंटर हिन्दी अनिवार्य विषय होने के कारण पंजीकृत सभी 2981327 अभ्यर्थियों को सम्मिलित होना था लेकिन इनमें से 127726 छात्र पेपर देने नहीं पहुंचे, इस आकड़े को अगर प्रतिशत में देखा जाए तो कुल छात्र के 4.28 प्रतिशत छात्रों ने परीक्षा छोड़ दी। तो वहीं खबर है कि हाईस्कूल गृह विज्ञान में पंजीकृत 963510 छात्रों में से 53100  यानी करीब 5.51 प्रतिशत छात्रों ने परीक्षा नहीं दिया।

गोवा: पर्रिकर सरकार को बड़ा झटका, SC ने रद्द कर की...

यहां आपको बता दें कि आकड़ों के अनुसार बताया जाता है कि सबसे अधिक हरदोई में (11141) छात्रों ने परीक्षा छोड़ी है। गौर हो कि यहां पेपर का बंडल गायब होने का भी मामला सामने आया था, जिसके कारण बोर्ड को परीक्षा से ठीक पहले 13 जिलों में छह विषयों के पेपर बदलने पड़े थे।

इसके अलावा आजमगढ़, जौनपुर और गोंडा में भारी संख्या में छात्रों ने अपनी परीक्षा छोड़ दी है, जबकि शामली से सबसे कम 320 बच्चों के पेपर छोड़ा, जिनमें से 118 हाईस्कूल के और 202 छात्र इंटर के हैं।

loading...