Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

बड़ा खुलासा: रोहित की हत्या मामले में पत्नी गिरफ्तार, जानिए आखिर उस रात क्या हुआ था!

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रहे दिवंगत कांग्रेस नेता नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। पिछले कई दिनों से जारी पड़ताल के बाद आखिरकार कर दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने रोहित शेकर की पत्नी अपूर्वा शेखर को गिरफ्तार कर लिया है।

दिल्ली के डिफेंस कॉलोनी में रहने वाले रोहित शेखर की रहस्यमयी मौत में उनकी पत्नी की भूमिका संदिग्ध लग रही थी। वहीं पूछताछ के दौरान भी अपूर्वा लगातार बयान बदल रही थी। जिसके कारण शक की सुई बार-बार अपूर्वा पर आकर ठहर जाती थी। वारादत वाली रात को लेकर अपूर्वा ने तीन अलग-अलग बयान दिए है।

अपने एक बयान में अपूर्वा ने रोहित के कमरे में जाने की बात स्वीकार की थी, लेकिन वह उसे मारने की बात से साफ इंकार कर रही थी। अपूर्वा की माने तो वारदात वाली रात वह रोहित के कमरे में गई थीं। वह कुछ समय उसके साथ रही और फिर वापस अपने कमरे में चली गईं। इसके बाद क्या हुआ? रोहित के कमरे में कौन गया इस बारे में वह कुछ नही जानती।

गौर हो कि रोहित के डिफेंस कॉलोनी स्थित घर में कुल सात सीसीटीवी कैमरे लगे थे। जिनमें से दो कैमरे खराब थे। ध्यान देने वाली बात है कि जो कैमरा रोहित का कमरा झांकता था वो भी खराब था, लेकिन एक ऐसा कैमरा भी था, जो इसकी पुष्टि करता है कि उस रात अपूर्वा रोहित के कमरे में गई थी, वह देर रात कमरे निकलकर बाहर आती भी कैमरे में कैद हुई। इससे यह साफ हो चुका था कि पति की मौत मामले में पत्नी की भूमिका संदिग्ध है।

क्राइम ब्रांच के एडिशनल सीपी राजीव रंजन की माने तो अब तक की जांच में पता चला है कि हत्या कि प्लानिंग नहीं की गई है और इसमें किसी बाहरी शख्स का भी हाथ नहीं है। जो भी हुआ है, अचानक ही किसी बात को लेकर हुआ। आपको बता दें कि जिस घर में रोहित की हत्या हुई है उसके भूतल पर रोहित शेखर का भाई सिद्धार्थ रहता है। जबकि भूतल पर ही पिछले हिस्से में नौकरानी डम्पी रहती है और पहली मंजिल पर रोहित शेखर, उसकी पत्नी अपूर्वा और चालक अखिलेश हैं।

बताया जाता है कि वारदात वाली रात चालक अखिलेश करीब साढ़े 11 बजे पहली मंजिल पर गया था। इसके बाद करीब 12 बजे नौकर गोलू भी उस फ्लोर पर गया था। जबकि रात करीब साढ़े 12 बजे के बाद अपूर्वा भी दिखीं थी। जबकि घर के अन्य लोग इस रात उपर नहीं गए थे। इसलिए मामले में रोहित की पत्नी और चालक के साथ नौकर गोलू शक के दायरे में थे।

लेकिन क्योंकि अपूर्वा खुद भी सुप्रीम कोर्ट में वकील हैं, लिहाजा पुलिस ने मामले में जल्दबाजी दिखाने की जगह पुख्ता सबूत इकट्ठा किया और गहन तफ्तीश के बाद हत्या के मामले में अपूर्वा को गिरफ्तार किया गया है। मामले में अपूर्व समेत कुल छह लोगों से लंबी पूछताछ की गई है। जिनमें रोतिह के सैतेले भाई उनकी पत्नी और मां समेत घर के नौकर भी शामिल हैं।

बता दें कि रोहित की हत्या मामले में पहले कहा जा रहा था कि उनकी मौत प्राकृतिक कारणों के चलते हुई है। रोहित की मां ने भी हत्या की बात नाकारते हुए बेटे की प्राकृतिक मौत बताई थीं। हालांकि उन्होंने यह भी कहा था कि उनका बेटा पिछले कुछ समय में अवसाद में चल रहा था। जिसका कारण वह समय आने पर बताएंगी। लेकिन रोहित के पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने पूरी स्थिति ही बलद ली।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने दावा किया कि रोहित की मौत प्राकृतिक नहीं बल्कि यह हत्या है। रिपोर्ट में साफ हो चुका है कि रोहित की मौत मुंह, नाक व गला दबाने के कारण हुई है। मामले में संदेह बढ़ने के बाद इसकी जांच क्राइम ब्रांच को सौपी गई थी। वहीं पूछताछ के दौरान पत्नी ने भी माना है कि दोनों के बीच झगड़ा हुआ था और दोनों ने एक दूसरे के गले दबये थे। लेकिन उन्होंने हत्या की बात नाकार दी थी। जबकि पुलिस का आरोप है कि अपूर्वा ये सब केस को कमजोर बनाने के लिए कर रही हैं।

loading...