Breaking News
  • लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भाजपा ने जारी किए 7 और उम्मीदवारों के नाम, दिल्ली से चार
  • श्रीलंका: आतंकियों ने चर्च सहित 8 जगहों को बनाया निशाना, कई विदेशी नागरिक भी मारे गए
  • श्रीलंका: सिलसिलेवार धमाकों में मरने वालों की संख्या 290, 400 ज्यादा लोग घायल
  • कोलकाता में बोले अमित शाह- बीजेपी की रैलियों को ममता सरकार इजाजत नहीं दे रही है

अनसुलझी पहेली है दिल्ली में कांग्रेस-आप का गठजोड़, राहुल और केजरीवाल आमने सामने

नई दिल्ली:  लोकसभा चुनाव के बाद बीजेपी को देश की सत्ता से उखाड़ फेकने के इरादे से विपक्ष पिछले काफी समय से एकजुट होने की कोशिश कर रहा है। लेकिन चुनाव आरंभ होने के बाद भी विपक्ष एकजुटता की तस्वीर साफ नही हो सकी है। इससे पहले उत्तर प्रदेश में बीजेपी के खिलाफ बनी महागठबंधन में कांग्रेस पार्टी को जगह नहीं मिली तो दिल्ली में कांग्रेस और आप का गठबंधन भी किसी पहले से कम नहीं है।

दरअसल, दिल्ली में कांग्रेस व आम आदमी पार्टी के बीच गठबंधन के मुद्दे पर चर्चा पिछले काफी समय से जारी है, लेकिन दोनों दल अब तक अंतिम नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है। वहीं अब दोनों दलों के प्रमुख नेता गठबंधन होने का ठीकरा एक दूसरे के मत्थे मढ़ते दिख रहे हैं।

दरअसल, आप पार्टी से गठबंधन न होने को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया कि, दिल्ली में कांग्रेस और आप के बीच गठबंधन का मतलब है भाजपा का सफाया। इसे सुनिश्चित करने के लिए कांग्रेस ने दिल्ली में चार सीट आप को देने के लिए तैयार है। लेकिन केजरीवाल ने एक और यू टर्न ले लिया!

साथ ही राहुल ने यह भी सफा किया है कि, हमारे दरवाजे अभी भी खुले हैं लेकिन समय तेजी से निकल रहा है। वहीं राहुल के यू टर्न वाले बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि, कैसा यू टर्न? बातचीत तो अभी भी जारी है। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा आपके (राहुल) ट्वीट से लगता है कि आप गठबंधन नहीं चाहते, केवल इसका दिखावा कर रहे हैं। मुझे अफसोस है कि आप ऐसे बयान दे रहे हैं।

उन्होंने कहा कि, आज मोदी-शाह से देश को बचाना बेहद जरूरी है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि आप उत्तर प्रदेश और अन्य जगहों पर मोदी विरोधी वोट को विभाजित कर मोदी की मदद कर रहे हैं। बता दें कि उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा-आरएलडी ने बीजेपी के खिलाफ महागठबंधन किया है, लेकिन इस महागठबंधन में कांग्रेस पार्टी को शामिल नहीं किया है। हालांकि इसके बाद भी ये सभी दलो एक दूसरे को कुछ सीटों पर समर्थन किया है।

loading...