Breaking News
  • राज्यसभा सांसद मदन लाल सैनी के निधन के बाद आज होने वाले BJP संसदीय दल की बैठक रद्द
  • ओडिशा विधानसभा में आज से शुरू होगा मानसून सत्र
  • WC 2019 : लॉर्ड्स के मैदान पर आज भिड़ेंगे इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया
  • राज्यसभा की दो सीटों पर अलग मतदान के विरोध में कांग्रेस की अपील पर SC में सुनवाई आज
  • 26 और 27 जून जम्मू-कश्मीर में रहेंगे शाह, करेंगे अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा की समीक्षा

महंगाई की मार : दिल्ली में बढ़ा 18.75 प्रतिशत ऑटो-रिक्शा किराया

नई दिल्ली : विधानसभा चुनाव से ठीक पहले केजरीवाल सरकार ने आम जनता के पॉकेट पर महंगाई का बोझ लाद दिया है, जिससे उन्हें आने वाले दिनों में काफी मशक्कत का सामना करना पड़ेगा। जिसकी अधिसूचना केजरीवाल सरकार ने जारी की है। वह यह कि आने वाले दिनों में ऑटो और रिक्शा के किरायें में बढ़ोतरी की जाएगी, वह भी 18.75 प्रतिशत की। केजरीवाल के इस निर्णय से राष्ट्रीय राजधानी में लगभग 90,000 ऑटो रिक्शा मालिकों और चालकों को लाभ होगा।

परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने ट्विटर पर लिखा है, ‘‘अरविंद केजरीवाल सरकार ने अपना प्रमुख वादा पूरा किया। परिवहन विभाग ने आटो रिक्शा किराया संशोधन को अधिसूचित कर दिया है। संशोधन के बाद भी दिल्ली में आटो किराया अन्य महानगरों की तुलना में कम होगा।’’

वहीं इस मंजूरी पर परिवहन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘आटो रिक्शा चालक मीटर में जरूरी बदलाव कर संशोधित दर ले सकेंगे। इसमें दिल्ली में पंजीकृत 90,000 आटो के मीटरों में जरूरी बदलाव के लिये करीब 1.5 महीना का समय लगेगा।’’

आपको बता दें कि पहले जहां आम नागरिकों को ऑटो और रिक्शा से 2 कि.मी. यात्रा करने के लिए 25 रूपए का भुगतान करना पड़ता था, वहीं अब 1.5 कि.मी. की दूरी के लिए 25 रूपए लगेंगे। अगर हम प्रति किलोमीटर के हिसाब की बात करें तो शुल्क मौजूदा 8 रुपये से बढ़ाकर 9.5 रुपये कर दिया गया है। जो करीब 18.75 प्रतिशत वृद्धि को बताता है।’’

बता दें कि अधिसूचना में पहली बार प्रतीक्षा शुल्क 0.75 रुपया प्रति मिनट लगाये जाने की बात कही गयी है। वहां सामान शुल्क 7.50 रुपये होगा। संशोधित किराये की अधिसूचना परिवहन विभाग द्वारा राज्य परिवहन प्राधिकरण को भेज दिया गया है। अधिकारियों की मानें तो इस बिल में देरी लेफ्टिनेंट गवर्नर की मंजूरी के वज़ह से हुई थी।   अंत में इसे कानून विभाग की राय के बाद गहलोत की मंजूरी से जारी किया गया। कानून विभाग के अनुसार, इस अधिसूचना के लिए लेफ्टिनेंट गवर्नर की मंजूरी की जरूरत नहीं है।

loading...