Breaking News
  • जम्मू-कश्मी: सोपोर में आतंकियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़, कई इलाकों में मोबाइल और इंटरनेट सेवा बंद
  • सपा-बसपा सरकारों के पास गरीबी को हटाने के लिए कोई एजेंडा नहीं था: सीएम योगी
  • सर्जिकल स्ट्राइक के दो साल पूरे होने पर देश मनाएगा पराक्रम पर्व
  • आज सुबह 9:17 बजे असम की बारपेटा में 4.7 तीव्रता से भूकंप के झटके

चुनाव खत्म होने बाद लगातार तीसरे दिन भी बढ़े डीजल-पेट्रोल के दाम, अब जानिए डराने वाली कीमत

नई दिल्ली: कर्नाटक राज्य में चुनाव खत्म होते ही जनता पर डीजल पेट्रोल की महंगाई का बम फूटने लगा है। बुधवार को लगातार तीसरे दिन भी डीजल पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि देखने को मिली। इसी के साथ राजधानी दिल्ली में डीजल की कीमत अपने सबसे उच्चतम स्तर पर पहुंचे गयी है। 

बतादें कि कर्नाटक विधानसभा का चुनाव निपटते ही देश में डीजल पेट्रोल की कीमतों में इजाफा शुरू हो गया है। इससे पहले चुनाव तक डीजल पेट्रोल के दामों में कोई भी वृद्धि नहीं हुई लेकिन जैसे ही चुनाव खत्म हुआ। वैसे ही डीजल पेट्रोल के दाम में आग लग गयी है। विधानसभा चुनाव के दौरान तेल कम्पनियों ने केंद्र के इशारे पर डीजल और पेट्रोल के दामों में रोजाना की जाने वाली वृद्धि को रोक दिया था? वहीँ जैसे ही राज्य के चुनाव खत्म हुए उसके लगातार तीसरे दिन भी डीजल पेट्रोल के दामों में वृद्धि का सिलसिला जारी है।

वाराणसी हादसा या सामूहिक हत्या: पढ़िए रोंगटे खड़े करने वाली रिपोर्ट

बुधवार को राजधानी में डीजल की कमेट अपने सबसे उच्चतम स्तर पर पहुँच गये हैं। जहाँ पिछले 19 दिनों से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया है। वहीँ कर्नाटक चुनाव खत्म होते ही सोमवार से ही को तेल कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल के दामों को बढ़ाना शुरू कर दिया है। वह बुधवार को लगातार जारी रही बुधवार को दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल 75.10 रुपये पर पहुंच गया है। और डीजल की कीमत 66 का आंकड़ा पार कर चुकी है।

कर्नाटक पर लालू के लाल का ऐसा बयान कि बुरी तरह तिलमिला गई बीजेपी...

बुधवार को इंडियन ऑयल कंपनी ने दिल्ली में पेट्रोल का दाम 15 पैसे बढ़ा है। वहीं, डीजल की कीमत 21 पैसे प्रति लीटर बढ़ाई गयी है। वहीँ मुंबई में एक लीटर पेट्रोल की कीमत 82.94 रुपये प्रति लीटर हो गयी है। डीजल पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि को लेकर केंद्र का तर्क है कि अंतर्राष्ट्रीय कीमतों में उछाल आ रहा है, लेकिन सवाल उठता है कि क्या केंद्र और राज्य सरकारें तेल पर लगने वाले टैक्स को कम कर जनता को राहत नहीं दे सकती हैं।

यह भी देखें-

loading...