Breaking News
  • जम्‍मू-कश्‍मीर: कुपवाड़ा के तंगधार में आतंकियों से मुठभेड़ में एक जवान शहीद
  • प्लास्टिक से बने तिरंगे का इस्तेमाल न करें- गृह मंत्रालय ने जारी की एडवाइजरी
  • हम विकास की सोचते हैं चुनाव की नहीं: पीएम मोदी

देखिए, उफान पर यमुना खतरे का निशान भी डूबा!

नई दिल्ली: देश के कई हिस्सों में भारी बारिश के कारण जन-जीवन अस्तव्यस्त दिख रहा है। बारिश के बाद अलग-अलग कारणों के चलते सौकड़ों लोगों की मौत भी हो चुकी है। अकेले उत्तर प्रदेश में ही अब तक 80 से अधिक लोगों के मारे जाने की खबर है, जबकि 400 से अधिक घर बर्बाद हो चुके हैं। इसी तरह से देश के अन्य राज्यों से भी तबाही की खबरें लगातार आ रही है।

इस बीच अब देश की राजधानी दिल्ली पर भी बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। हरियाणा के हथिनी कुंड बैराज से भारी मात्रा में पानी छोड़ने के कारण दिल्ली में यमुना नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। मंगलवार सुबह यमुना का जलस्तर 206 मीटर तक पहुंच गया। खतरे के निशान वाले बोर्ड भी पानी में डूबते दिख रहे हैं।

VIDEO: ट्रैक्टर रेस के दौरान कैसे हुआ हादसा!

इससे पहले सोमवार को यमुना का जलस्तर 205.76 मीटर तक था, संभावित खतरे को देखते हुए यमुना पर बने लोहे के पुल पर वाहनों का आवागमन बंद कर दिया गया है। हालात की नजाकत को देखते हुए दिल्ली सरकार के आला अधिकारी और खुद उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया भी यमुना के तटों का दौरा कर चुके हैं।

बाढ़ नियंत्रण विभाग के अनुसार, बैराज से दो दिन काफी पानी छोड़ा गया, 28 जुलाई की शाम सात बजे 6,05,949 क्यूसेक और 29 जुलाई की सुबह 8 बजे 2,42,657 क्यूसेक एवम शाम को 1,10,248 क्यूसेक पानी छोड़ा गया। बैराज से सोमवार को सबसे अधिक 52,279 क्यूसेक पानी सुबह करीब पांच बजे छोड़ा गया, जबकि शाम सात बजे भी 28,421 क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। जिसके कारण यमुना नदी उफान पर है।

यहां देखिए यमुना का हाल!

दूसरी शादी से भी खुश नहीं है यह खूबसूरत एक्ट्रेस, दो बच्चियों की हैं मां!

loading...