Breaking News
  • जम्मू-कश्मी: सोपोर में आतंकियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़, कई इलाकों में मोबाइल और इंटरनेट सेवा बंद
  • सपा-बसपा सरकारों के पास गरीबी को हटाने के लिए कोई एजेंडा नहीं था: सीएम योगी
  • सर्जिकल स्ट्राइक के दो साल पूरे होने पर देश मनाएगा पराक्रम पर्व
  • आज सुबह 9:17 बजे असम की बारपेटा में 4.7 तीव्रता से भूकंप के झटके

विद्या के मंदिर में दरिंदगी, मासूम बच्चों को तहखाने में किया बंद

नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली से एक हैरान कर देने वाल सामने आया है। यहां एक स्कूल पर आरोप है कि, दरिंदगी की हदें पार करते हुए पैसों के लिए मासूमों को बंधक बनाया गया। मामले के खुलासे के बाद दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि, मैं इस मामवे को सुनकर हैरान रह गया। मामले में संबंधित अधिकारों को कड़ी से कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

दरअसल यह पूरा मामला दिल्ली के चांदनी चौक से है, जहां एक स्कूल ने केजी के बच्चों को बंधक बना लिया। बताया जाता है कि स्कूल ने ऐसा इसलिए किया क्योंकि बच्चों के फीस जमा नहीं थे। यह स्कूल राबिया प्राथमिक स्कूल के नाम से जाना जाता है, जिसकी एक महीने की फीस 3000 रुपये है।

क्या वाकई अंबानी के जेब में है मोदी सरकार, जाने क्या है पूरा झोल!

खबरों के अनुसार इस मामले का खुलासा उस समय हुआ जब स्कूल की छुट्टी के बाद बच्चों के परिजन उन्हें लेने स्कूल पहुंचे। जहां उन्हें पता चला कि उनके बच्चों को स्कूल प्रशासन ने बेसमेंट यानी तहखाने में बंद कर दिया है। इसके बाद बच्चों के परिजनों ने जमकर हंगामा किया। हालांकि अब मामले में बढ़ते विवाद के बाद पुलिस स्कूल और संबंधित कर्मचारियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच कर रही है।

फीफा 2018 के फाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार स्कूल के एक शिक्षक ने बताया कि स्कूल के नियमों के अनुसार हर महीने की 30 तारीख तक स्कूल की फीस जमा करना होता है, अगर ऐसा नहीं हुआ तो संबंधित बच्चों को क्लास में शामिल नहीं होने दिया जाता।

बागपत जेल में बंजरगी की हत्या के बाद बांदा जेल में हड़कंप, दहशत में बाहुबली...

वहीं मामले पर पुलिस का कहना है कि कुछ अभिभावकों ने उन्हें इस बात की जानकारी दी कि मध्य दिल्ली के हौज काजी इलाके में शिक्षकों ने 16 बच्चों को सुबह सात बजे से लेकर दोपहर 12 बजे तक बंद रखा। मामले में आईपीसी की धारा 342 के तहत एफआईआर दर्ज किया गया है।

loading...