Breaking News
  • फ्रांस: सूटवेल ऐथलेटिक्स मीट में भारत के भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा ने जीता गोल्ड
  • संसद का मानसून सत्र आज से होगा शुरू, 10 अगस्त तक चलने वाले सत्र में 18 बैठकें
  • ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी में 2 इमारतें गिरी- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जांच के दिए आदेश

दिल्ली: प्राइवेट स्कूल का आतंक, 59 मासूम बच्चियों को तहखाने में बनाया बंधक

नई दिल्ली: दिल्ली सरकार कितना भी प्राइवेट स्कूलों की मनमानी में अंकुश लगाने की बात कर ले, लेकिन दिल्ली में स्कूलों का बड़ा आतंक जारी है। मंगलवार को दिल्ली के एक स्कूल ने कई मासूम बच्चियों को तहखाने में भूखा प्यासा बंद कर दिया।   

बतादें कि पूरा हाईप्रोफाइल मामला राजधानी दिल्ली के बल्लीमारान का है। जहाँ राबिया गर्ल्स पब्लिक स्कूल में मंगलवार को एक सनसनीखेज और दिल दहलाने वाली घटना ने सरकार  से लेकर इस सिस्टम तक को हिला दिया। जारी खबरों और वीडियो के द्वारा सामने आया है कि राबिया गर्ल्स पब्लिक स्कूल में 59 मासूम बच्चियों को 40 डिग्री के तापमान माने तहखाने में पांच घंटे टॉक भूखा प्यासा बंद करके रखा गया। जिससे बच्चियों की हालात बिगड़ गयी है। स्कूल के 'आतंकी' मुनाफाखोर प्रशासन ने बच्चियों को इसलिए तहखाने में डाल दिया कि उन्होंने जून माह की फीस नहीं भरी थी। स्कूलों प्रशासन यहीं नहीं रुका बच्चियों को तहखाने में डालने के बाद पैरेंट से गाली गलौज तक किया गया। लेकिन जैसे जैसे पैरेंट को इस बात की जानकारी लगी स्कूल में लोगों का जमाबडा बढने लगा।

मुंबई: भारी बारिश में थमी लाइफलाइन, वेस्टर्न हाईवे पर रात से फंसे हैं लोग

पंजाब: मुक्तसर में पीएम मोदी की बड़ी रैली, किसान देंगे धन्यवाद?

बताया जा रहा है कि तहखाने का गेट जब खोला गया तो बच्चियां 40 डिग्री के तापमान में तप रहीं थी। जहाँ न को पंखा था और न पानी की व्यवस्था। अपने माता पिता को देखकर मासूम बच्चियां रोने लगी। वहीँ पूरी दिल दहलाने वाली घटना की जानकरी पुलिस को दी गयी। मामला मासूमों की जिन्दगी से जुड़ा था तो सरकार भी हरकत में आई। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री विभाग भी देखने वाले मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर कहा कि, इस घटना की जानकारी के बाद वह परेशान है कि आखिरी ऐसा कोई कैसे कर सकता है। बताया जा रहा है सिसोदिया ने फ़ौरन अधिकारियों को आदेश देकर स्कूल प्रशासन पर कार्रवाई करने को कहा है। जिसके बाद स्कूल प्रशासन पर आईपीसी की धारा 342 के तहत स्कूल के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है और हौज काजी पुलिस स्टेशन में किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम के 75 तहत आगे की जांच चल रही है। वहीँ इस मामले में पैरेंट ने स्कूल में जमा की गयी फीस की स्लिप भी दिखाई, जिसके बाद मामला संदिग्ध हो गया है। हालाँकि पुलिस जांच में जुटी है।

यह भी देखें-

loading...