Breaking News
  • कुलभूषण जाधव मामले में आज आएगा फैसला, पाकिस्तानी वकील पहुंचे हेग
  • प्रयागराज : सपा सांसद अतीक अहमद के कई ठिकानों पर छापा
  • सिद्धू के इस्तीफे पर आज फैसला लेंगे पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर
  • कर्नाटक मामले में आज सुप्रीम कोर्ट आज सुनाएगा फैसला

केजरीवाल ने खोला चुनावी पिटारा, मोदी और शाह को ही बना लिया सबसे बड़ा मुद्दा!

नई दिल्ली: भाजपा और कांग्रेस के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी अपनी आम आदमी पार्टी का घोषणापत्र जारी कर दिया है। पार्टी की घोषणापत्र में शिक्षा, स्वास्थ्य, प्रदूषण, महिला सुरक्षा समेत अन्य कई मुद्दों को शामिल किया गया है, जिसकी जानकारी देते हुए पार्टी मुखिया केजरीवाल ने मीडिया को संबोधित किया है।

आप पार्टी की घोषणापत्र में वादा किया गया है कि दिल्ली के पूर्ण राज्य बनने के बाद सरकार दिल्ली पुलिस में बदलाव करेगी और खाली पड़े पदों पर भर्तियां करेगी। जिससे पुलिसवालों को आराम के लिए समय मिल सकेगा और वे पूरी निष्ठा के साथ अपनी जिम्मेदारी निभा सकेंगे।

केजरीवाल ने वादा किया है कि जिस ऐंटी करप्शन ब्रांच को मोदी सरकार ने 'छीना' है उसे वापस लेकर भ्रष्टाचार कम करेंगे। केजरीवाल का वादा है कि दिल्ली के कॉलेजों में 85 प्रतिशत सीट दिल्ली के बच्चों के लिए रिजर्व करेंगे। दिल्ली के वोटरों को 85 प्रतिशत नौकरियों में रिजर्वेशन देंगे।

पार्टी ने दावा किया है कि पूर्ण राज्य बनने पर ठेके के कर्मचारियों व गेस्ट टीचर्स को भी एक हफ्ते के अंदर पक्का करेंगे। अगर एमसीडी की कमान आप पार्टी के हाथों में आई तो पूरी दिल्ली को कूड़े से छुटकारा दिलाएंगे और डीडीए में भ्रष्टाचार को खत्म कर 10 साल के अंदर दिल्ली वालों को सस्ता और आसान किस्तों में घर दिलाएंगे।

विपक्ष पर वार

घोषणापत्र जारी करते हुए केजरीवाल ने न सिर्फ पार्टी का एजेंडा जाहिर किया, बल्कि भाजपा व कांग्रेस पर हमले भी किए। उन्होंने आशंका जताई कि 2019 में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिल रहा है। ऐसे में हम मोदी शाह को छोड़कर जिसकी भी सरकार बनेगी उसका समर्थन करने को तैयार हैं, लेकिन समर्थन के दौरान उनकी उम्मीद रहेगी कि दिल्ली की 70 साल पुरानी पूर्ण राज्य की मांग को पूरा किया जाएगा।

इस दौरान मीडिया से बात करते हुए केजरीवाल ने कांग्रेस व बीजेपी की घोषणापत्र पर भी हमला बोला। बीजेपी की घोषणा पत्र पर हमला करते हुए केजरीवाल ने कहा कि, बीजेपी का घोषणापत्र सिर्फ 'एक लाइन' का है कि तीन धर्मों को छोड़कर सबको देश से निकाल दिया जाए। उन्होंने अमित शाह के एक बयान का जिक्र करते हुए कहा कि 2019 में मोदी सरकार बनने पर बीजेपी मुसलमानों, जैन, पारसियों समेत अन्य सभी को घुसपैठिया बताकर निकालना चाहती है।

वहीं कांग्रेस-आप के बीच गठबंधन न होने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए केजरीवाल ने कहा कि मैं राहुल गांधी से पूछना चाहता हूं कि ट्विटर पर कौन सा गठबंधन बनता है? यदि मोदी और शाह सत्ता में फिर से लौटते हैं, तो केवल गांधी ही जिम्मेदार होंगे। उन्होंने कहा कि हमारी एकता को चुनौती दी जा रही है। देश को तभी बचाया जा सकता है,जब हम धर्म और जाति के आधार पर विभाजित न हों। 2019 का चुनाव देश और संविधान को बचाने के लिए है। हम पहले भारतीय हैं, उसके बाद हिंदू या मुसलमान हैं।

loading...