Breaking News
  • चार धाम यात्रा: छह महिने के बाद खुले केदारनाथ धाम के कपाट, कल खुलेंगे बद्रीनाथ के कपाट
  • वो (ममता) अब मेरे लिए पत्थरों और थप्पड़ों की बात करती हैं: मोदी
  • पश्चिम बंगाल के बांकुरा में पीएम मोदी की चुनावी रैली, ममता पर बोला हमला
  • लोकसभा चुनाव में 200 सीटों के अंदर सिमट जाएगी एनडीए: चंद्रबाबू नायडू
  • पश्चिम बंगाल में वोटिंग के दौरान हिंसा, दमदम में रो पड़े मतदान अधिकारी
  • गोडसे विवाद पर नीतीश, साध्वी प्रज्ञा का बयान बर्दाश्त से बाहर, पार्टी से निकाला जाए
  • लोकसभा चुनाव: सातवें व अंतिन चरण में 8 राज्यों की 59 सीटों पर वोटिंग

टिकट नहीं मिला तो बीजेपी ‘चौकीदार’ ने छोड़ दी पार्टी, बोले- केजरीवाल ने पहले ही बताया था…

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019 के लिए बीजेपी ने राष्ट्रीय राजधानी की सभी सात लोकसभा सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। जिन्हें टिकट मिला है वे अपनी चुनावी कार्यक्रम को रफ्तार देने नें जुटे हैं, जबकि जो टिकट पाने में नाकाम रहे उनका रोना-धोना भी शुरू हो चुका है और अब वे अपने लिए नये रास्ते की तलाश कर रहे हैं।

दरअसल, बीजेपी ने उत्तर पश्चिमी दिल्ली से मैजूदा सांसद उदित राज का टिकट काट कर मशहूर पंजाबी सिंगर हंसराज हंस पर दांव खेलने का फैसला किया है। पार्टी के इस फैसले से नाराज उदित राज ने बीजेपी को अलविदा कहने का फैसला किया है। टिकट पाने में नाकाम रहे उदित राज ने कहा कि, बीजेपी ने टिकट नहीं दिया, अब मैंने पार्टी छोड़ने का फैसला किया है।

मीडिया से बात करते हुए उन्होंने बताया कि, “कल केजरीवाल का फोन आया था और आज मैंने उन्हें फोन किया, वह हंस रहे थे, उन्होंने चार महीने पहले मुझे चेतावनी दी थी कि टिकट नहीं मिलेगा। तब मैंने उनसे पूछा कि उन्हें कैसै पता था?” साथ ही उन्होंने कहा कि, “राहुल गांधी ने भी दो बार पार्लियामेंट में कहा था कि आप गलत पार्टी में हैं, उसे छोड़ दीजिए”।

अपनी सीट से दूसरे उम्मीदवार की घोषणा के बाद उदित राज इतने नाराज हैं कि उन्होंने अपने नाम के आगे से चौकीदार शब्द भी हटा लिया है। बता दें कि चौकीदारों को राजनीति में घसीटने का श्रेय कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को जाता है, जिन्होंने राफेल डील में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए पीएम मोदी की तुलना चोर से की और ‘चौकीदार चोर है’ का नारा बुलंद किया।

लेकिन बीजेपी ने कांग्रेस के ‘चौकीदार’ हाथों-हाथ लोक लिया, नतीजा ये हैं कि अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर बीजेपी का हर छोटा-बड़ा कार्यकर्ता अपने आप को चौकीदार बता रहा है। अब से पहले टिकट की आस में बैठे उदित राज भी चौकीदार होने का दावा करते थे, लेकिन अब उन्होंने बीजेपी के साथ-साथ चौकीदारी को भी तौबा करने का मन बना लिया है।

आपको बता दें कि उदित राज राजनीति में दलित समुदाय का नेतृत्व करते हैं। दिल्ली की राजनीति में इस समुदाय पर राज की अच्छी पकड़ मानी जाती है, ऐसे में चुनावी समर पर उदित का पार्टी छोड़ना बीजेपी राज के लिए खतरे की घंटी भी साबित हो सकती है।

loading...