Breaking News
  • कुश्ती के 97 किलो भारवर्ग में भारत के मौसम खत्री की 8-0 से निराशाजनक हार
  • हरिद्वार: हर की पौड़ी पर संपूर्ण विधि विधान के साथ अटल जी की अस्थियों का विसर्जन किया गया
  • कांग्रेस के निलंबित नेता मणिशंकर अय्यर की कांग्रेस में वापसी पर बीजेपी का हमला
  • कांग्रेस ने मणिशंकर अय्यर को निलंबित करके दिखावा किया

दिल्ली में ड्रामा: अब केजरीवाल के धरने के खिलाफ बीजेपी ने शुरू किया धरना

नई दिल्ली: दिल्ली की जनता पाननी की प्यास से परेशान हो रही है, लेकिन राज्य की सरकार और विपक्ष दोनों ही अपने ड्रामेबाजी में लगे हुये हैं। जहाँ सोमवार से आप सरकार एलजी के घर पे धरना धरे हैं तो वहीँ अब बीजेपी और आप के बागी ने केजरीवाल के खिलाफ ही धरना शुरू कर दिया है।

बतादें कि आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के सीएम अरिवन्द केजरीवाल सहित मनीष सिसोदिया, सतेन्द्र जैन और गोपाल राय दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल के घर में धरना दे रहे हैं। सोमवार से शुरू हुआ धरना अभी तक जारी है। इसी बीच दो नेताओं ने भूख हड़ताल का भी एलान कर दिया है। ऐसे में आप नेताओं के धरने और भूख हड़ताल पर एक नया ड्रामा भी शुरू हो गया है। बताया जा रहा है कि अरविन्द केजरीवाल और उनके वरिष्ठ मंत्रियों के धरने के खिलाफ अब बीजेपी और आप के बागी विधायक कपिल मिश्रा ने भी धरने पर बैठ गये हैं।

बीजेपी के नेता विजेंदर गुप्ता, मनजिंदर सिरसा, आप के बागी कपिल मिश्रा सहित कई ने सीएम केजरीवाल पर द्रमाबाजी का आरोप लगाते हुए सीएम आवास में धरने पर बैठ गये हैं। जहाँ से फोटो ट्वीट करते हुए बीजेपी नेता मनजिंदर सिरसा ने लिखा कि, 'अगर अरविन्द केजरीवाल को दिल्ली की फ़िकर होती तो वो पानी की समस्या सुलझाते, स्कूलों/बच्चों के भविष्य का सोचते तो whitewash का मुद्दा VS में उठाते, बढ़ते भ्रष्टाचार की चिंता होती तो जनलोकपाल बिल लाते, पर उन्हें सिर्फ़ अपनी FOOTAGE की फ़िकर है। तो LG House में धरना-नौटंकी चालू है!!

दरअसल केजरीवाल और उनकी कैबिनेट के वरिष्ठ मंत्री सोमवार से लगातार अपनी कुछ मांगों को लेकर एलजी हाउस पर धरना दे रहे हैं। उन्हें धरना देते हुए 48 घंटे बीत चुके हैं। इसी बीच सत्येंद्र जैन और मनीष सिसोदिया ने भूख हड़ताल शुरू कर दी है।

क्या है केजरीवाल की मांग

सिंगापुर: किम को सता रहा था मौत का डर, अमेरिकी पेन को नहीं लगाया हाथ

सोमवार से धरने और दिल्ली में नौटंकी का कारण आप सरकार की यह छोटी सी मांगे हैं। जिसने एलजी साहब लटकाए हुए हैं।

-केजरीवाल का कहना है कि, एलजी खुद IAS अधिकारियों की गैरकानूनी हड़ताल को खत्म कराएं, क्योंकि वो सर्विस विभाग के मुखिया हैं।

महागठबंधन' पर राहुल का बड़ा बयान, कौन होगा 2019 में इसका नेता?

-इसके अलावा काम रोकने वाले IAS अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। और राशन की डोर-स्टेप-डिलीवरी की योजना को मंजूर किया जाए, जिसको लेकर लम्बे समय से एलजी और आप सरकार में विवाद बना हुआ है।

यह भी देखें-

loading...