Breaking News
  • चार धाम यात्रा: छह महिने के बाद खुले केदारनाथ धाम के कपाट, कल खुलेंगे बद्रीनाथ के कपाट
  • वो (ममता) अब मेरे लिए पत्थरों और थप्पड़ों की बात करती हैं: मोदी
  • पश्चिम बंगाल के बांकुरा में पीएम मोदी की चुनावी रैली, ममता पर बोला हमला
  • लोकसभा चुनाव में 200 सीटों के अंदर सिमट जाएगी एनडीए: चंद्रबाबू नायडू
  • पश्चिम बंगाल में वोटिंग के दौरान हिंसा, दमदम में रो पड़े मतदान अधिकारी
  • गोडसे विवाद पर नीतीश, साध्वी प्रज्ञा का बयान बर्दाश्त से बाहर, पार्टी से निकाला जाए
  • लोकसभा चुनाव: सातवें व अंतिन चरण में 8 राज्यों की 59 सीटों पर वोटिंग

बड़ी खबर : 'आप' सरकार को हाइकोर्ट का बड़ा झटका, कोर्ट ने लगाया भेदभाव का आरोप

नई दिल्ली : दिल्ली हाइकोर्ट ने आम आदमी पार्टी की सरकार को तगड़ा झटका दिया है। अपनी जिस घोषणा को वह अगले चुनाव में हथियार बनाकर लड़ना चाहती थी, अब वह हथियार कुंद पड़ता नज़र आ रहा हैं। दरअसल बात यह है कि आप सरकार ने यह घोषणा की थी कि अब दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली वासियों को ही विभिन्न तरह की राहत पैकेज दिए जाएँगे।जिसे हाइकोर्ट में एक याचिकाकर्ता के द्वारा चुनौति दिया गया था।

बुरी खबर : 48 घंटों तक इंटरनेटसेवा हो सकती है बाधित, पढ़िए पूरी खबर

कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा कि, 'दिल्ली सरकार का सर्कुलर मनमाना है और मेडिकल सेवाओं में भेदभाव किसी भी लिहाज़ से मरीजों के साथ नाइंसाफी है।' हाईकोर्ट ने कहा कि, 'दिल्ली सरकार का आदेश मनमाना और तर्कहीन है। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि दिल्ली पैन इंडिया है यानी दिल्ली देश की राजधानी है और देश के किसी भी मरीज को इलाज के लिए मना नहीं किया जा सकता। यह सर्कुलर समानता के अधिकार और जीने के हक के खिलाफ है। इसीलिए हम इसे रद्द कर रहे हैं।'

रूस ने दिया पाकिस्तान को करारा जवाब, कहा पाकिस्तान के साथ हमारा...

कोर्ट ने इस मामले में याचिकाकर्ता के इस तर्क को माना कि सरकारी अस्पतालों में इलाज कराने वाले ज्यादातर मरीज गरीब होते हैं और सरकारी अस्पताल इसके लिए इलाज़ का आख़िरी विकल्प होते है। और यहां भी और अगर सरकार इलाज से मना करती है तो ये इलाज कहां कराएंगे।

आपको बता दे कि हाईकोर्ट का यह आदेश दिल्ली सरकार को तुरंत प्रभाव से लागू करना होगा यानी अब जीटीबी अस्पताल से दिल्ली सरकार को तुरंत उन बड़े-बड़े होर्डिंग्स को हटाना होगा जिनमें बाहर से आने वाले लोगों को इलाज की मनाही थी।

बता दें कि अगर अस्पताल का प्रशासन इस आदेश के बाद दिल्ली के बाहर से आए किसी भी मरीज को इलाज से मना करता है तो यह कोर्ट की अवमानना मानी जाएगी। कोर्ट ते इस फैसले के बाद आमजन में खुशी की लहर दौर पड़ी है।

आगामी दो वर्षों में भी इन शेयरो की प्रॉफिट ग्रोथ में होगी वृद्धि, जानिए कौन है वो शेयर

loading...