Breaking News
  • मोदी की बंपर जीत पर राहुल गांधी ने दी शुभकामनाएं
  • अमेठी सीट से हारे राहुल गांधी, वायनाड से मिली जीत
  • प्रियंका गांधी के साथ कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में पहुंचे राहुल गांधी
  • राहुल गांधी के इस्तीफे पर सस्पेंस बरकरार
  • मां से आशीर्वाद लेने के लिए कल गुजरात जाएंगे मोदी
  • सूरत अग्निकांड में अब तक 21 की मौत, 3 के खिलाफ FIR दर्ज
  • चार धाम यात्रा: छह महिने के बाद खुले केदारनाथ धाम के कपाट, कल खुलेंगे बद्रीनाथ के कपाट
  • वो (ममता) अब मेरे लिए पत्थरों और थप्पड़ों की बात करती हैं: मोदी
  • पश्चिम बंगाल के बांकुरा में पीएम मोदी की चुनावी रैली, ममता पर बोला हमला
  • लोकसभा चुनाव 2019: NDA को प्रचंड बहुमत, 300 से अधिक सीटों पर बीजेपी की जीत
  • 24 मई: आज भंग हो सकती है 16वीं लोकसभा, पीएम मोदी की अध्यक्षता में केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक

योगी की रैली से घबराई ममता, तोड़ा मंच और ...

नई दिल्ली : पश्चिम बंगाल में बीजेपी की ताबड़तोड़ रैलियां से ममता सरकार इस कदर घबरा गई है कि उन्होंने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के बाद अब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की भी मंच तोड़ डाली। इसके साथ ही वहां मौजूद बीजेपी समर्थकों के साथ मारपीट भी की गई। लेकिन इसके बावजूद भी बीजेपी अड़ गई और योगी आज कोलकाता में रैली करेंगे।

आपको बता दें कि कोलकाता में आने से पहले योगी अभी बरासात में एक सभा को संबोधित कर रहें हैं। जिसमें वे ममता पर जमकर बरसें। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी एक झूठ बोलने के लिए कई झूठ बोल रही हैं, ममता की सरकार दंगे भड़का रही है इसकी एक्सपाइरी तारीख निश्चित है। योगी ने कहा कि टीएमसी के गुंडों ने अमित शाह के रोड शो में जो हमला किया, इस सरकार की अंतिम ताबूत बनने जा रही है। इनको सिर छुपाने की जगह तक नहीं मिलेगी।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि टीएमसी जिनको समर्थन कर रही है वही लोग मूर्ति पूजा को नहीं मानते हैं। TMC के गुंडे ही मूर्ति को तोड़ रहे हैं, इन्होंने ही ईश्वरचंद विद्यासागर की मूर्ति को तोड़ा। ये लोग जय श्री राम के नारे पर भी रोक लगा रहे हैं, इन्हें दुर्गा पूजा और सरस्वती पूजा करने से भी दिक्कत है। मैंने यूपी में पूजा का समय नहीं बदला लेकिन मोहर्रम-ताजिया का समय बदलवा दिया।

आपको बता दें कि अमित शाह के रोड शो के दौरान पश्चिम बंगाल में जमकर हिंसा हुई थी। जिसका ठिकरा ममता ने शाह पर फोड़ा। और इसे लेकर उन्होंने अमित शाह पर एफआईआर भी दर्ज करवा दिया। जिसके बाद प्रेस कांफ्रेंस के दौरान शाह ने ममता पर आरोप लगाते हुए कहा कि ममता ने उन्हें मरवाने की कोशिश की हैं। अगर उस समय सीआरपीएफ के जवान नहीं आते तो मैं बच नहीं पाता।

अब देखना यह है कि क्या एक बार फिर पश्चिम बंगाल में सातवें चरण के चुनाव के दौरान हिंसा जारी रहेगी या चुनाव आयोग इस मामले पर कोई कड़ा कदम उठायेंगे। जनता ममता के इस तानाशाह रवैये का क्या परिणाम देती है?

loading...