Breaking News
  • गुजरात: 44 बिल्डर्स और फाइनेंसरों के कई ठिकानों पर आयकर विभाग के छापे
  • सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की वार्षिक समीक्षा बैठक में वित्त मंत्री, कर्ज देने की प्रक्रिया को ईमानदार बनाएं बैंक
  • उत्तर भारत में मौसम का कहर जारी, हिमाचल में 3 की मौत, बादल फटने से मची तबाही
  • भारत-पाक विदेश मंत्रियों की वार्ता रद्द होने के बाद सार्क बैठक पर संकट

VIDEO: जनता दरबार में महिला बोली चोर-उचक्का कहीं का, उत्तराखंड CM ने कहा गिरफ्तार करो इसे

देहरादून: चुनाव से पहले जो नेता आपके दर पर हाथ जोड़ कर आते हैं और आपसे अपने पक्ष में वोट करने की अपील करते हैं, लेकिन जब वे आपके समर्थन से सत्ता में आते हैं तो उसके सिर सत्ता का नशा सवार होता है। इसके कई उदाहरण आपने पहले भी देखे होंगे, क्योंकि सत्ता का नशा किसी खास दल के खास नेता पर नहीं बल्कि जो सत्ता में होता है उसे सिर पर सत्ता का नशा सवार होता है।

इस क्रम में सत्ता के नाशा का यह नया मामला भाजरा शासित राज्य उत्तराखंड से है, जहां से मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत पर गंभीर आपरो लगाए जा रहे हैं। सीएम पर आरोप है कि उन्होंने एक फरियादी महिला पर भड़क उठे और उन्होंने विधवा महिला को सीधा फर्मान ही सुना दिया। दरअसल इस दौरान सीएम जनता दरबार में फरियादियों की फरियाद सुन रहे थे। नीचे वीडियो भी देख सकते हैं!

कुपवाड़ा में रात से ही जारी है मुठभेड़, शोपियां में सेना पर आतंकी हमला

इसी दौरान जनता दरबार में एक विधवा टीचर भी अपनी फरियाद लेकर पहुंची। बताया जाता है कि महिला सीएम से अपना ट्रांसफर नहीं करने की अपील कर रही थी, लेकिन सीएम को महिला की बात या बात करने का तरीका शायद पसंद नहीं आया लिहाजा ट्रांसफर रोकने के बजाय उन्होंने महिला को सस्पेंड किए जाने का फर्मान सुना दिया।

खबरों के अनुसार महिला ने अपनी शिकायत में सीएम से कहा कि, वह 25 साल से काम कर रही है, उनके पति की भी मौत हो चुकी है, उनके बच्चों को कोई देखने वाला नहीं है, ऐसे में वह अपने बच्चों को अकेला नहीं छोड़ सकती और मैं नौकरी भी नहीं छोड़ सकती, इसलिए मेरे साथ न्याय करें।

भारी परेशानी में फंसे अमरनाथ यात्री, रोकी गई यात्रा!

इसके बाद सीएम ने कहा कि, जब आपने नौकरी शुरू की थी तो क्या लिख कर दिया था? इसके जवाब में महिला टीचर ने कहा कि, मैंने यह भी लिखकर नहीं दिया था की मैं बनवास भोगूंगी। महिला ने कहा कि ये आपही का नारा है कि, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, ये नहीं है कि बनवास भेजना है। आरोप है कि महिला के इन्ही बातों से सीएम नाराज हो गए।

महिला की बातों से नाराज सीएम ने कहा क शिक्षिका हो नौकरी करती हो, ठीक से बोलो, सभ्यता सीखो। लेकिन इसके बाद भी महिला बोलती ही रही। जिसके बाद सीएम ने कहा कि आपको सस्पेड कर दिया जाएगा। जिसपर महिला ने कहा कि आप क्या सस्पेंड करेंगे मैं खुद घर बैठी हूं। सीएम के साथ बदतमीजी करता देख वहां सुरक्षाकर्मी भी पहुंच गए। जिसके बाद सीएम ने कहा कि इन्हें ले जाओं यहां से।

इसी बीच महिला ने जाते-जाते सीएम और वहां मौजूद लोगों के लिए ‘चोर-उच्चके’ शब्द का भी जिक्र किया। जिसके बाद सीएम ने कहा कि इसे कस्टडी में लो।

देखिए VIDEO

loading...