Breaking News
  • जो राम का नहीं, वो किसी काम का नहीं-धमतरी में CM योगी
  • दौसा के बीजेपी सांसद हरीश मीणा कांग्रेस ज्वॉइन करेंगे
  • गहलोत बोले, मैं और सचिन पायलट मिलकर लड़ेंगे चुनाव
  • SC ने प्रशांत भूषण से कहा, कोर्ट में उतना ही बोलें जितना ज़रूरी हो

चुनावी सरगर्मी के बीच आपस में ही भीड़े कांग्रेस के दो दिग्गज नेता, राहुल हुए ...

म.प्र. : जैसे-जैसे विभिन्न राज्यों में चुनाव के समय नजदीक आ रहें है वैसे ही वैसे विभिन्न पार्टियों के आपसी कड़वाहट सामने आती जा रहीं हैं। इन सभी पार्टियों में सबसे ऊपर जो नाम आता हैं वह कांग्रेस का। कांग्रेस में आए दिन हमेशा कुछ न कुछ ऐसा होता हैं जिससे वे हमेशा सुर्खियों बना रहता हैं। चाहे वह कांग्रेस अध्यक्ष का कन्फ्युजन हो या उनका टंग स्लिप या उनके पार्टी के नेताओं का आपस में न बनना। आपको बता दे कि कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति की बुधवार रात हुई बैठक के दौरान मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच जमकर कहासुनी हो गई। यह बैठक राहुल गांधी की मौजूदगी में मध्य प्रदेश के उम्मीदवारों की लिस्ट को अंतिम रूप देने के लिए बुलाई गई थी।

कांग्रेस के इस नेता ने किया अपने ही पार्टी पर की विवादित टिप्पणी, कहा, ‘पार्टी गई तेल लेने’ : वीडियो

पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में अपने-अपने उम्मीदवारों को टिकट दिलाने के लिए वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया आपस में भिड़ गए। शुरुआती बहस कुछ ही देर में तीखी नोक-झोंक में बदल गई। दोनों में काफी समय तक तू-तू-मैं-मैं भी चलता रहा। यह सब कुछ राहुल गांधी की मौजूदगी में हुआ। जिसे देखकर राहुल काफी गुस्सा दिखें।

10 दिन में कर्ज माफ नहीं किया तो, 11 वें दिन बदल जाएगा मुख्यमंत्री : राहुल गांधी

दोनों के बीच जब बात नहीं बनी तो विवाद सुलझाने के लिए राहुल गांधी को तीन सदस्यीय समिति बनानी पड़ी। तीन सदस्यीय समिति के सदस्यों अशोक गहलोत, वीरप्पा मोइली और अहमद पटेल की इस समिति ने पार्टी के वॉर रूम 15 गुरुद्वारा रकाबगंज रोड में रात 2.30 बजे तक मामले को सुलझाने के लिए बैठक की। लेकिन समिति की बैठक में पूरा मामला नहीं सुलझ सका, इसलिए आज सुबह 9 बजे से फिर बैठक जारी है। इस मामले पर पार्टी की ओर से सभी नेताओं को इस विवाद पर कुछ भी बोलने से मना कर दिया गया है।

शिवराज सिंह चौहान के धमकी से डरे राहुल, 24 घंटें के अंदर ही माफी मांगी

आपको बता दें कि मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन की प्रक्रिया 2 नवंबर से शुरू हो रही है, जो 9 नवंबर तक चलेगी। इसको ध्यान में रखते हुए कांग्रेस ने 5 नवंबर तक अपनी सभी सूचियां जारी करने की संभावना जताई है। वहीं बीजेपी भी अपने उम्मीदवारों के नाम घोषित कर सकती है।

loading...