Breaking News
  • हिंदुस्तान का लॉकडाउन फेल हुआ, सरकार आगे की रणनीति बताए : राहुल गांधी
  • जम्मू-कश्मीर : पुंछ के बालाकोट सेक्टर में पाकिस्तान ने तोड़ा सीजफायर, दागे मोर्टार
  • महाराष्ट्र : पिछले 24 घंटे में 90 और पुलिसकर्मी संक्रमित, संक्रमित पुलिसकर्मियों की तादाद 1889 पहुंची
  • मरकज मामले में आज चार्जशीट दायर करेगी दिल्ली पुलिस, 20 देशों के 83 विदेशी जमातियों के नाम
  • देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 145380, 60490 ठीक, 4167 की मौत

मौत की इस घाटी ने ली 11 और लोगों की जान, हुआ बड़ा हादसा

झारखंड : तेज रफ्तार, गाड़ी का ब्रेक फेल, ड्राइवरों और खलासी की मनमर्जियां, ये शब्द उस भयावह एक्सीडेंट से जुड़ा है, जिसने निंद के आगोश में सो रहें लोगों को सदा के लिए मौत की निंद सुला दी। चश्मदीद की मानें तो वह ड्राइवर लगातार तेज रफ्तार से गाड़ी चला रहा था, बस में सवार पसिंजर उसे मना कर रहे थे। लेकिन ड्राइवर भी कहां मानने वाला था। वह जल्द से जल्द अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए अपने बस की स्पीड लगातार बढ़ाता जा रहा था कि अचानक गाड़ी का ब्रेक फेल हो गया। वह यात्रियों को इस घटना से आगाह करने के लिए लगातार चिल्लाएं जा रहा था, गाड़ी पर वह नियंत्रण करने की कोशिश कर रहा था। लेकिन होनी को कुछ और ही मंजूर था, यह तेज से चलती हुई गाड़ी सड़क किनारे खड़ी सरिया लदी ट्रक से टकरा गई, जिसमें 11 लोगों की मौत हो गई, वहीं 25 लोग घायल भी हो गए। इस एक्सीडेंट में मरनेवाले लोगों की संख्या में और इजाफा हो सकता है।

बता दें कि यह घटना झारखंड के चौपारण में सोमवार तड़के सुबह 3.30 बजे के करीब हुआ था। जिसमें ड्राइवर और खलासी की मौके पर ही मौत हो गई। इस घटना में घायल लोगों के इलाज के लिए मुख्यालय से डॉक्टरों की टीम भी रवाना हो चुकी है। जिनकी देखरेख में इनका बेहतर इलाज किया जा सकें। गौरतलब है कि यह बस गुमला से मसौढ़ी की ओर जा रहा था, जो इस हादसे की शिकार हुआ, जिसका नाम महारानी बस है।

आपको बता दें कि यह एक्सीडेंट झारखंड के उसी घाटी के पास हुआ है जिसे लोग मौत की घाटी के नाम से भी जानते है। वैसे तो इस घाटी का नाम दनुआ घाटी है लेकिन पिछले कुछ महीने में इस घाटी ने अब तक 30 लोगों को निगल लिया है। जिससे इस घाटी के लेकर लोगों में काफी दहशत है। बता दें कि यह घाटी बिहार और झारखंड के सीमावर्ती क्षेत्र से सटा हुआ है।

loading...