Breaking News
  • सोनभद्र जमीन मामले में अब तक 26 आरोपी गिरफ्तार, प्रियंका करेंगी मुलाकात
  • वेस्टइंडीज दौरे के लिए रविवार को 11:30 बजे होगा टीम इंडिया का चयन
  • बिहार : बाढ़ से अब तक 83 लोगों की मौत
  • कर्नाटक में आज दोपहर डेढ़ बजे तक सरकार को साबित करना होगा बहुमत

घुटने भर पानी में ही डूब रहीं है कांग्रेस की नैय्या, कांग्रेस कार्यालय के बाहर लगा ऐसा पोस्टर

नोएडा : लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार से बैखलाई कांग्रेस पार्टी शायद अब सबसे बुरे दौर से गुजर रही है। एक ओर जहां राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद कांग्रेस में इस्तीफे का दौर जारी है तो वहीं दूसरी ओर सियासी मझधार में डूबती सवा सौ साल पुरानी पार्टी नेतृत्व को तरस रही है।

चुनावी हार और पारिवारिक पार्टी में अकेले पड़े राहुल गांधी ने हार की जिम्मेदारी ली तो जिम्मेदारियों की लाइन लग गई। इस बीच मध्य प्रदेश से आई ये तस्वीर घुटने भर पानी में ही कांग्रेस की नैय्या डूबती दिख रही है।

तस्वीरें मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से हैं, यहां कांग्रेस कार्यालय के बाहर पोस्टर लगाए हैं, जिसकी मदद से ज्योतिरादित्य सिंधिया को कांग्रेस की कमान सौंपने की मांग की गई है। ये पोस्टर ऐसे वक्त में लगाए गए हैं जब सिंधिया ने मध्य प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया है। बता दें कि कुछ साल पहले इलाहाबाद में भी प्रियंका गांधी को अध्यक्ष बनाने की मांग को लेकर ऐसे ही पोस्टर लगाए गए थे।

वहीं राहुल गांधी और सिंधिया के इस्तीफे के बाद अब महासचिव प्रियंका गांधी पर इस्तेफे का दबाव बढ़ रहा है। क्योंकि लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी ने सिंधिया और प्रियंका दोनों को पूर्वी उत्तर प्रदेश की कमान दी थी, और ये दोनों अपनी जिम्मेदारी निभाने में नाकाम रहे। लिहाजा सिधिंया के इस्तीफे के बाद अब प्रियंका पर भी दबाव बढ़ रहा है। ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि हार की जिम्मेदारी लेते हुए प्रियंका अपने पद का त्याग करती है, या फिर सियासी मंडी में बिखरती पार्टी को बचाने को आगे आती हैं।

यहां आपको यह भी बता दें कि लोकसभा चुनाव में करारी हार की जिम्मेदारी लेते हुए राहुल गांधी ने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया है। लेकिन कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में उनके फैसले पर फिर से विचार किया जाएगा। जबकि इधर राहुल ने साफ कर दिया है कि इस्तीफे से कम कुछ भी मंजूर नहीं। राहुल गांधी के इस ऐतिहासिक फैसले के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोहरा को फिलहाल कार्यकारी अध्यक्ष बनाया गया है। लेकिन जिस तरह से सिंधिया के समर्थन में पोस्टर लगाया गया है, अगर ऐसी मांग दूसरे नेताओं के समर्थकों ने करना शुरू कर दिया तो पार्टी के लिए एक और बड़ा संकट खड़ा हो सकता है।

loading...