Breaking News
  • संसद का शीकालीन सत्र आज से शुरू, प्रधानमंत्री ने कहा चर्चा होनी चाहिए
  • 5 राज्यों मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिज़ोरम में मतगणना

BJP का वंशवाद! शिवराज के बेटे ने एंट्री के साथ किया पिता का गुणगान...

नई दिल्ली: चाहे वो सत्ताधारी बीजेपी हो या मुख्य विरोधी कांग्रेस या फिर अन्य राजनीतिक दल, लगभग सभी दलों के नेता एक दूसरे पर वंशवाद की राजनीत का आरोप लगाते रहे हैं, जबकि हकीकत तो यह है कि यहां वंशवाद से कोई दल अछूता है ही नहीं। बीजेपी के सबसे बड़े चेहरे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कई बार वंशवाद की बात करते हुए कांग्रेस पार्टी पर हमला कर चुके हैं।

जिसके बाद अब बीजेपी ने खुद ही वंशवाद का नमूना पेश किया है। दरअसल भाजपा शासित राज्य मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के बेटे कार्तिकेय सिंह चौहान ने रविवार को पूरे गाजे-बाजे के साथ राजनीति में प्रवेश किया है। इसके साथ ही कार्तिनकेय ने एक सभा को संबोधित करते हुए जमकर पिता का गुणगान किया।

गूगल पर छा गईं भारतीय सिनेमा की पहली एक्शन हिरोइन!

कार्तिनकेय शिवपुरी जिले के कोलारस में धाकड़ समाज के सम्मेलन में शामिल हुए और पिता का गुणगाण करते हुए विरोधियों पर हमला भी बोला। बता दें कि इस क्षेत्र में जल्द ही विधानसभा उपचुनाव होना है। यह क्षेत्र कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के संसदीय क्षेत्र में आता है।

VIDEO: वोट मांगने की सजा- शिवराज के राज में BJP उम्मीदवार को पहना दिया जूतो का हार...

जहां सभा को संबोधित करते हुए कार्तिकेय ने बिना नाम लिए ज्योतिरादित्य पर हमला किया और कहा कि 'एक सांसद मेरे पिता को भगाने की बात कहते हैं, उन्हें और मंत्रियों को कौरव कहते हैं। यह बहुत ही निम्न दर्जे की राजनीति है, जिसे जनता देख रही है और इसका जवाब भी जनता ही देगी। बता दें कि सीएम शिवराज के 22 साल के बेटे कार्तिकेय पहली बार बुधनी विधानसभा क्षेत्र से बाहर प्रचार करने निकले है।

हिजबुल को मिला दूसरा ‘बुरहान वानी’- AMU का यह PHD स्कॉलर क्यों बना आतंकी!

इस बात का जिक्र करते हुए कार्तिकेय  ने कहा कि 'मैं जब कोलारस आ रहा था, तो पिता से पूछा कि, मैं पहली बार बुधनी से बाहर जाकर सभा में क्या करूंगा, तो उन्होंने कहा कि जो सच हो, वही बोलना’। इसके साथ ही कार्तिकेय ने विरोधियों पर हमला करते हुए कहा कि 'मेरे पिता की किसी से लड़ाई नहीं है और वह किसी से लड़ना भी नहीं चाहते, वह सिर्फ गरीबी से लड़ना चाहते हैं।'

loading...