Breaking News
  • सौदे की सीबीआई जांच की मांग वाली याचिकाएं सुप्रीम कोर्ट में खारिज
  • राफेल की गुणवत्ता पर सवाल नहीं, कीमत जानना जरूरी नहीं : सीजेआई
  • राज्यसभा की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित
  • पर्थ टेस्ट: ऑस्ट्रेलिया ने जीता टॉस, पहले बल्लेबाजी का फैसला

पत्नी को मरने के लिए मजबूर करने के मामले में कांग्रेस नेता को बड़ी राहत!

नई दिल्ली: यूपीए सरकार के दौरान मंत्री रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर के लिए गुरुवार को एक राहत भरी खबर आई जब उन्हें पत्नी की की मौत मामले में अग्रिम जमानत दे दी गई। शशि थरूर की पत्नी 51 साल की सुनंदा पुष्कर की मौत साल 2014 में हुई थी। लेकिन क्योंकि मामला वरिष्ठ नेता से जुड़ा है इसलिए मालमें के खिंचतान अब भी जारी है।

गौरतलब हो कि थरूर की पत्नी सुनंद पुष्कर 17 जनवरी 2014 को दिल्ली के एक होटल में रहस्यम परिस्थिति में मृत पाई गई थीं। जिसके बाद में मामले में कई उतार चढ़ाव हुए है। मामले में थरूर पर आरोप है कि उन्होंने अपनी पत्नी को मरने पर मजबूर किया है। हालांकि ये बात अब तक साबित नहीं हो सकी है।

सलमान के नाम एक और विवाद, पीड़ित दंपत्ति ने कहा- मेरा जीना हराम कर रखा है!

इस बीच पिछले दिनों दिल्ली पुलिस ने फिर से मामले की फाइल खोली और थरूर के खिलाफ अहम सबूत होने का दवा किया। जिसके बाद अदालत ने पांच जून को पुलिस द्वारा दायर आरोपपत्र पर संज्ञान लिया था। हालांकि अब दिल्ली की एक स्थानीय अदालत ने अग्रिम जमानत दे दी। इसके सात ही खबर है कि थरूर को शनिवार को अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल के समक्ष पेश होना है।

पत्नी ने पति को गड़ासे से उड़ाया, 4 दिन पहले हुई थी मर्द की दूसरी और औरत की तीसरी शादी

जानकारी के अनुसार, दिल्ली पुलिस ने थरूर की जमानत याचिका का विरोध किया, लेकिन इसके बाद भी अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अरविंद कुमार ने एक लाख रुपये के निजी मुचलके पर थरूर को अग्रिम जमानत दे दी। आपको बता दें कि शशि थरूर तिरुवनंतपुरम से सांसद हैं। जो पिछले लंबे समय से इस मामले में उल्झे हैं। वहीं इस पूरे मामले को लेकर कांग्रेस पार्टी का मानना है कि थरूर को राजनीतिक कारणों से परेशान किया जा रहा है।

दिल्ली के एक घर में मिली 11 लाशों के मामले में आया नया CCTV

loading...