Breaking News
  • लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भाजपा ने जारी किए 7 और उम्मीदवारों के नाम, दिल्ली से चार
  • श्रीलंका: आतंकियों ने चर्च सहित 8 जगहों को बनाया निशाना, कई विदेशी नागरिक भी मारे गए
  • श्रीलंका: सिलसिलेवार धमाकों में मरने वालों की संख्या 290, 400 ज्यादा लोग घायल
  • कोलकाता में बोले अमित शाह- बीजेपी की रैलियों को ममता सरकार इजाजत नहीं दे रही है

धर्मयुद्ध लड़ने को तैयार हैं साध्वी प्रज्ञा, दिग्गविजय से मुकाबला?

नई दिल्ली: पूरा देश लोकसभा चुनाव की खुमारियों में खोया है। हर कीमत पर चुनाव जीतने की होड़ में लगी राजनीतिक पार्टियां चुनावी माहौल को समझते हुए, फूंक-फूंक कर कदम बढ़ा रही है। खास तौर पर उम्मीदवार खड़े करने से पहले सभी पार्टियां गहन विचार-विमर्श के कर रही है।

चुनावी चर्चाओं के बीच एक बड़ी खबर मध्य प्रदेश के भोपाल से हैं। दरअसल, लोकसभा चुनाव 2019 के लिए कांग्रेस पार्टी ने भोपाल से दिग्गज नेता दिग्गविजय सिंह को उम्मीदवार बनाया हैं। यह क्षेत्र दिग्गी का गढ़ माना जाता है, ऐसे में भाजपा को यह समझ नहीं आ रहा कि आखिर दिग्गविजय से कैसे निपटा जाए। हालांकि सूत्रों की माने तो बीजेपी ने दिग्गविजय का तोड़ निकाल लिया है।

सूत्र बताते हैं कि, बीजेपी भोपाल से कांग्रेस उम्मीदवार के खिलाफ मालेगांव विस्‍फोट कांड में ‘बिना अपराध किए’ सालों तक जेल की सजा काट चुकी साध्‍वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को चुनावी मैदान में उतार सकती है। हालांकि जब प्रज्ञा से इस बारे में पूछ गया तो उन्होंने कहा कि अभी तक मैं इस बारे में बता नहीं सकती। लेकिन जब संगठन की तरफ से ऐसा आदेश आएगा तो मैं धर्मयुद्ध लड़ने को तैयार हूं।

साध्वी ने कहा कि जिस दिग्विजय सिंह ने हिंदू धर्म को पूरे विश्व में बदनाम किया है। भगवा ध्वज को आतंकवाद का रूप बताया है। अध्यात्म और त्यागमय जीवन पर प्रहार किए और राष्ट्रधर्म को कलंकित किया, उसके खिलाफ यदि मुझे चुनाव लड़ना पड़े तो मैं पीछे नहीं हटूंगी। उन्होंने कहा कि मैं तो बचपन से राजनीति करती आ रही हूं। अभी तक मैं किंगमेकर की भूमिका में थी लेकिन अगर अब संगठन आदेश देता है तो मैं किंग बनने को भी तैयार हूं।

मैं एक राष्ट्रभक्त हूं और राष्ट्र के विरूद्ध बात करने वालों के लिए, पापी और दुरात्मा को समाप्त करने के लिए कुछ भी करने को तैयार हूं। आज भले ही दिग्विजय सिंह ने अपने आसपास साधु सन्यासियों की भीड़ लगा रखी हो लेकिन वे असली साधु नहीं हो सकते। आपको बता दें कि भोपाल में नॉमीनेशन की अंतिम तिथि 16 मार्च है, जहां 12 मई को चुनाव होने है।

loading...