Breaking News
  • नमो एप के जरिए पीएम मोदी ने की सौभाग्य योजना के लाभार्थियों से बात
  • उत्तराखंड: टेहरी जिले में चम्बा-उत्तरकाशी मार्ग पर बस खाई में गिरी, 10 की मौत, तई घायल
  • आडवाणी के करीबी चंदन मित्रा ने बीजेपी से दिया इस्तीफा, टीएमसी में हो सकते हैं शामिल
  • ग्रे. नोएडा बिल्डिंग हादसे में अबतक 8 की मौत, अथॉरिटी प्रोजेक्ट मैनेजर समेत 3 सस्पेंड

मोहन भागवत ने इन्हें बताया ‘दुष्ट’, कहा इनसे लड़ने की जरुरत नहीं!

भोपाल: राष्ट्रीय स्वयं सेवक प्रमुख मोहन भागवत ने एक कार्यक्रम को संबोधित करते शिक्षा को सर्वोपरि बताते हुए कहा कि शिक्षा पेट भरने के लिए नही पायी जाती है, उन्होंने कहा कि जीवन को कैसे सार्थक बनाया जाए यह शिक्षा से ही सीखा जाता है। इसके साथ ही उन्होंने कहा हमे युद्ध में रणनीति सीखनी होगी। युद्ध कौशल में हमे एक समय में एक ही युद्ध करना चाहिए, वहीँ भागवत ने कहा कि हमे दुष्टों से लड़ने की कोई जरुरत नहीं है।

बतादें कि आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत शुक्रवार सायं मध्यप्रदेश के बैतूल स्थित भारत भारती आवासीय विद्यालय के वार्षिकोत्सव के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पहुंचे थे। इस दौरान भागवत भागवत ने एक कहानी के जरिए वहां मौजूद लोगों से कहा कि युद्ध शास्त्र एक बार में एक से ही युद्ध करने की शिक्षा देता है, एक साथ दो से युद्ध नहीं करना चाहिए।

U19 वर्ल्ड कप जीतने के लिए भारत को मिले 217 रन

ऐसा इसलिए क्योंकि एक व्यक्ति एक से ही अच्छे से लड़ाई लड़ सकता है। जब एक को परास्त कर दो, वह मर रहा हो तो उससे अपना बचाव करते हुए आगे बढ़ जाओ।’ इसके वाला भागवत ने शिक्षा दी कि हमे दुष्टों से लड़ने की कोई जरुरत नहीं है। भागवत ने कहा कि ‘दुनिया में दुष्ट है और वे सज्जनों से लड़ते हैं, हमें दुष्टों से नहीं लडऩा है, क्योंकि अगर हम ठीक हैं तो हमारा कोई कुछ नहीं कर सकता है।’

JK: जवानों पर बरपा सफ़ेद आतंक का कहर, तीन शहीद

उन्होंने कहा शिक्षा पर जोर देते हुए कहा कि समाज का शिक्षित होना बहुत जरुरी है। शिक्षा सिर्फ आजीविका चलाने के लिए नहीं ली जाती है यह हमारे निरर्थक जीवन को अर्थपूर्ण बनाती है। बैतूल में हो रहे इस कार्यक्रम में देशभर से सैकड़ों लोग शामिल होने पहुंचे थे।

loading...