Breaking News
  • कोहरे की वजह से दिल्ली आने-जाने वाली 15 ट्रेनें रद्द, 39 देरी से
  • मेघालय,त्रिपुरा और नागालैंड में विधानसभा चुनाव तारीखों की आज होगी घोषणा
  • नाइजीरिया: मदुईगिरी आत्मघाती बम धमाके में 12 की मौत, कई घायल
  • एक दिवसीय क्रिकेट में 'क्रिकेटर ऑफ द इयर' का खिताब विराट कोहली के नाम

यूपी में तय है अखिलेश-माया का मिलन- एक बड़े नेता ने दिया बयान !

पटना: बिहार की सत्ताधारी राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने अपनी पार्टी के स्थापना दिवस पर बोलते हुए 2019 लोकसभा चुनाव को लेकर बड़ा बयान दिया है। केंद्र सरकार के नीतियों पर बरसते हुए लालू यादव ने कहा कि यूपी में मायावती और अखिलेश के जल्द ही साथ आने की संभावना है, अगर ऐसा होता है तब तो 'खेल' खत्म ही है।

केंद्र सरकार पर हमला करते हुए लालू ने कहा कि मैं सबको साथ लाने की कोशिश में जुटा हूं, इसलिए भाजपा मेरे पीछे पड़ी है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार में रोजगार शून्य पर हो गया है, कानून व्यवस्था की हालत खराब है, कालाधन को वापस लाने जैसी बातें महज जुमला बनकर रह गई है।

‘800 साल पुराना है भारत और इजरायल का रिश्ता’

भ्रष्टाचार या किस न किसी तरह के विवादों में रहने वाले कुछ लोगों के नाम के साहारे इस दौरान लालू ने अपने परिवार के उपर पड़े CBI रेड पर भी पलटवार किया। लउन्होंने कहा कि चाहें रॉबर्ट वाड्रा हो या प्रियंका जी हो, या फिर केजरीवाल हो या ममता बनर्जी हो या लालू प्रसाद का परिवार हो, इन सबको तोड़ने की कोशिश की जा रही है।

देश की मौजूदा हालात पर चिंता जताते हुए लालू यादव ने कहा कि मौजूदा समय ऐसा लगता है मानो देश में अघोषित इमरजेंसी जारी है। उन्होने कहा कि देश बहुत खतरनाक दौर से गुजर रहा है। बता दें कि पिछ दिनों के भीतर ही लालू यादव और उनके लगभग सभी परिवार के सदस्यों के नाम घोटाले से जुड़ रहे है। लिहाजा लालू परिवार इन दिनों सरकारी जांच एजेंसियों के रडार पर चल रही हैं।

लालू के साथ ऐसा क्या हुआ कि अघोषित इमरजेंसी करार दे दिया

loading...