Breaking News
  • मध्य प्रदेश के भोपाल में आज से खुलेंगे बाजार, 22 मार्च से लगातार बंद
  • जामिया हिंसा मामले में पिंजरा तोड़ ग्रुप की दोनों छात्राएं दो दिन की क्राइम ब्रांच रिमांड पर
  • मरकज मामले में दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच 15 नई चार्जशीट दाखिल करेंगे
  • केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कोरोना पर झूठ फैला रहे हैं राहुल गांधी
  • महाराष्ट्र : पिछले 24 घंटे में 75 और पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव

कमल के अस्पताल में चूहा कर रहें इलाज, मरीज हैं परेशान

नोएडा : मध्य प्रदेश की कमल नाथ सरकार अक्सर अपनी स्वास्थ, सुरक्षा और शिक्षा को लेकर लाख दम भर्ती हो, लेकिन उनके राज़ मे स्वास्थ व्यवस्था के हाल कितने खस्ताहाल हो चुके हैं, ये  रतलाम से आई खबर से साफ समझा जा सकता है। यहां के आस्पतालों में चूहो का आतंक इस कदर बढ़ चुका है कि चूहे इलाजी मरीजों को कुतरने से बाज नहीं आ रहे।

दरअसल, रतलाम जिले के चिकित्सालय के आइसीयू में एक महिने से भर्ती मरीज जिसकी हालत ठीक नही थी, वह कोमा की स्थिति में था। अस्पताल वालो की अनदेखी के कारण उस मरीज के पैरो को चूहों ने कुतर डाला। मरीज के पिता राजेंद्र सिंह भाटी का कहना है कि करीब 4 बजे के करीब इसके पैर से खून आने लग गया था। जिसके बाद  डॉक्टर को बुलाया गया और उसकी मरहम पट्टी की। 

हालात ये है कि, चूहे अस्पताल में मरीजों से ज्यादा दिखाई देते है। और मरीजों  के खाने को चूटकियो में खत्म कर देते है। इस संबंध में जब सिविल सर्जन डॉ.आनंद चंदेलकर से बात हुई, तो सर्जन मौसम का बहाना बनाते नजर आए। बारिश की वजह से चूहे बढ़ गए है और अभी हुए 3 दिन पहले पेस्ट कण्ट्रोल करवाया है। उसके बाद भी चूहे खत्म नहीं हो पाए है। चूहों की  सबसे बड़ी समस्या ये है कि  बारिश की वजह से उनके बिलो मे पानी भर गया है और वो सुरक्षित स्थानों पर जा रहे है। इसके बाद उन्होंने कहा कि मरीजों के परिजन बाहर खाना खाते हैं तो बचा हुआ वहीं छोड़ देते है, जिसके कारण चूहे आकर्षित होते है।

गौरतलब हो की,  ये पहला मामला नहीं है । जहां चूहों का आतंक देखा गया हो इसे पहले भी जावरा के एक सरकारी अस्पताल से ऐसी लापरवाही सामने आ चुकी है । जहां चूहों ने शवगृह में रखे शवों को कुतर दिया था। और अब तक इस मामले पर अस्पताल प्रबंधन कुछ नही कर पाया है।

loading...