Breaking News
  • राज्यसभा सांसद मदन लाल सैनी के निधन के बाद आज होने वाले BJP संसदीय दल की बैठक रद्द
  • ओडिशा विधानसभा में आज से शुरू होगा मानसून सत्र
  • WC 2019 : लॉर्ड्स के मैदान पर आज भिड़ेंगे इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया
  • राज्यसभा की दो सीटों पर अलग मतदान के विरोध में कांग्रेस की अपील पर SC में सुनवाई आज
  • 26 और 27 जून जम्मू-कश्मीर में रहेंगे शाह, करेंगे अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा की समीक्षा

हरियाणा: बुलंदी पर विकास, बेलगाम अपराध

YAMUNA NAGAR:-केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी, यमुनानगर स्थित सरस्वती उद्गम स्थल पर हरियाणा के मुख्यमंत्री के साथ हवनयज्ञ करते हुए नज़र आए। दरअसल हरियाणा सरकार अन्तर्राष्ट्रीय गीता जयंती के बाद अब अन्तर्राष्ट्रीय सरस्वती महोत्सव मना रही हैं, इसी संबध में गुरूवार को नितिन गडकरी के साथ बीजेपी के कई दिग्गज नेता इस चार दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय महोत्सव का शुभारंभ करने पहुंचे। इस मौके पर एक यात्रा को हरी-झण्डी दिखाकर रवाना करने के बाद गडकरी ने कहा कि आदिबद्री स्थल को विश्व स्तर का पर्यटन स्थल विकसित करने के लिए धन की कोई कमी नही छोड़ी जाएगी।

अन्तर्राष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव को लेकर विपक्ष अभी हरियाणा सरकार को घेरने में लगा हुआ है, लेकिन इन सभी बातों की परवाह ना करते हुए हरियाणा सरकार अब अन्तर्राष्ट्रीय सरस्वती महोत्सव मना रही हैं। चार दिवसीय यह महोत्सव यमुनानगर और कुरूक्षेत्र जिले में सिमटा हुआ हैं, जिसकी शुरूआत 18 जनवरी को यमुनानगर के सरस्वती उद्गम स्थल से की गई हैं और इसका समाप्न 22 जनवरी को कुरूक्षेत्र के पेहवा स्थित सरस्वती धाम में किया जाएगा। महोत्सव का शुभांरभ करने केनद्रीय जल संसाधन,  गंगा जीर्णोद्वार, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी पूरे लावलश्कर के साथ पहुँचे। उनके साथ हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल, हरियाणा विधानसभा स्पीकर कंवरपाल, हिमाचल प्रदेश विधानसभा स्पीकर राजीव बिन्दल, खादय एवं आपूर्ति मंत्री कर्णदेव काम्बोज, श्रम एवं रोजगार मंत्री नायब सिंह सैनी, अखिल भारतीय कार्यकारणी राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सदस्य इन्द्रेश कुमार सहित स्थानीय विधायक भी मौजूद थे।

उड़न खटोले से पहुंचें इन मंत्रियों को गार्ड-ऑफ-आनर देने के बाद सरस्वती कुंड ले जाया गया, जहां केन्द्रीय मंत्री गडकरी के साथ हरियाणा के सीएम ने भी भारत की विभिन्न नदियों से लाए गए जल से वैदिक मंत्रोच्चार के बीच सरस्वती माँ की पूजा अर्चना की। इसके बाद एक अन्तर्राष्ट्रीय सरस्वती यात्रा को हरी झंडी देकर रवाना किया गया, जो प्रदेश के विभिन्न जिलों में घूमकर 22 जनवरी को कुरूक्षेत्र के पेहवा सरस्वती धाम पहुंचेगी।

बहरहाल, खट्टर सरकार राज्य के विकास को बुलंदी तक पहुंचाना चाहती है, लेकिन एक सच ये भी है खट्टर सरकार राज्य में हुए बेलगाम अरपाध को काबु नहीं कर पा रही है। बीते तीन दिनों में हरियाणा में 5 रेप हो चूके है, इन आकड़ों को देख हर कोई हैरान है, लेकिन खट्टर सरकार के लिए अपराध से ज्यादा सरस्वती महोत्सव मनाना जरूरी है।  

loading...