Breaking News
  • UPElection: 5वें चरण के लिए चुनाव-प्रचार का आज आखिरी दिन
  • जम्मू कश्मीर: शादियों में फिजूलखर्ची पर सरकार ने पेश किया लाई बिल- मेहमानों की संख्या के साथ कई नियम
  • MCD चुनाव के लिए आप पार्टी ने किया 109 उम्मीदवारों का ऐलान
  • इंफाल: पीएम मोदी की चुनावी सभा- मणिपुर में कांग्रेस रहने को अधिकारी नहीं
  • पूर्वी भारत के विकास के बिना भारत का विकास अधूरा- मोदी
  • कांग्रेस जो काम 15 साल में नहीं कर पाई, हम 15 महीनों में करेंग- मोदी
  • पुणे टेस्ट: 333 रन से हारी टीम इंडिया- दूसरी पारी में भी 107 पर ऑलआउट

नोटबंदी के बाद चोरों ने बदला अपना चोरी का तरीका...


RAIPUR:- रायपुर में नोटबंदी के बाद राजधानी के अपराध जगत में भी खासा बदलाव देखने को मिल रहा है। चोर सूने मकानों में करेंसी उड़ाने के बजाय अब केवल गाड़ी मोटर चुराने और फिर जेवर साफ करने में फोकस जमा रहे हैं।

हाल के दिनों में दर्ज हुए अपराधिक रिकॉर्ड में स्थिति सामने आई है। चोर गिरोह ने नकदी के बजाय तमाम जगहों से मोटर वाहन गायब किए। यही नहीं, चेन और जेवर लूटने सनसनी फैलाई। नकदी बंद होने के बाद घरों में रखे महंगे सामान पर खतरा मंडरा रहा है। अंजान चेहरों से सतर्क रहने की जरूरत है। 9 नवंबर से देशभर में पुरानी करेंसी बंद होने के बाद नईदुनिया ने थानों में चोरी के मामलों का जायजा लिया। नौ तारीख के बाद से सबसे ज्यादा वाहन चोरी के केस सामने आए।

दो बड़े दुकानों में इलेक्ट्रॉनिक उपकरण चोरी होने की सूचना पर अलग से केस दर्ज हुआ। आकड़ों पर गौर करें तो 8 तारीख के पहले तक शहर में कई सूने मकानों में ताले टूटे। जहां से चोरों ने जेवर चुराने के साथ करेंसी की मोटी रकम चुराई। पुरानी करेंसी के बंद होने का जब हल्ला मचा, नोट छोड़कर गाड़ी मोटर या फिर जेवर चुराने भिड़ गए।

नोटबंदी के बाद से अब तक 9 दिनों में 17 जगहों पर गाड़ियां चुराईं, जबकि केवल दो जगहों पर केवल इलेक्ट्रॉनिक उपकरण गायब करने धावा बोला। वैसे आम दिनों में 8 नवंबर के पहले तक पुलिस के सालाना रिकॉर्ड में औसतन हर एक दिन चोरी के केस सामने आते हैं। हफ्तेभर के अंदर कहीं भी बड़ी करेंसी या जेवर गायब होने की सूचना नहीं मिली।