Breaking News
  • INX मीडिया केस: पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम CBI में पेशी
  • वाराणसी: BHU के अस्पताल में भी मरीजों के साथ लापरवाही
  • पूर्व रेल मंत्री और कांग्रेस नेता पवन बंसल के बेटे के ठिकानों पर आयकर ने छापेमारी की
  • यूपी: एक और रेल हादसा- इंजन सहित कैफियत एक्सप्रेस के 10 डिब्बे पटरी से उतरे

नोटबंदी के बाद चोरों ने बदला अपना चोरी का तरीका...

RAIPUR:- रायपुर में नोटबंदी के बाद राजधानी के अपराध जगत में भी खासा बदलाव देखने को मिल रहा है। चोर सूने मकानों में करेंसी उड़ाने के बजाय अब केवल गाड़ी मोटर चुराने और फिर जेवर साफ करने में फोकस जमा रहे हैं।

हाल के दिनों में दर्ज हुए अपराधिक रिकॉर्ड में स्थिति सामने आई है। चोर गिरोह ने नकदी के बजाय तमाम जगहों से मोटर वाहन गायब किए। यही नहीं, चेन और जेवर लूटने सनसनी फैलाई। नकदी बंद होने के बाद घरों में रखे महंगे सामान पर खतरा मंडरा रहा है। अंजान चेहरों से सतर्क रहने की जरूरत है। 9 नवंबर से देशभर में पुरानी करेंसी बंद होने के बाद नईदुनिया ने थानों में चोरी के मामलों का जायजा लिया। नौ तारीख के बाद से सबसे ज्यादा वाहन चोरी के केस सामने आए।

दो बड़े दुकानों में इलेक्ट्रॉनिक उपकरण चोरी होने की सूचना पर अलग से केस दर्ज हुआ। आकड़ों पर गौर करें तो 8 तारीख के पहले तक शहर में कई सूने मकानों में ताले टूटे। जहां से चोरों ने जेवर चुराने के साथ करेंसी की मोटी रकम चुराई। पुरानी करेंसी के बंद होने का जब हल्ला मचा, नोट छोड़कर गाड़ी मोटर या फिर जेवर चुराने भिड़ गए।

नोटबंदी के बाद से अब तक 9 दिनों में 17 जगहों पर गाड़ियां चुराईं, जबकि केवल दो जगहों पर केवल इलेक्ट्रॉनिक उपकरण गायब करने धावा बोला। वैसे आम दिनों में 8 नवंबर के पहले तक पुलिस के सालाना रिकॉर्ड में औसतन हर एक दिन चोरी के केस सामने आते हैं। हफ्तेभर के अंदर कहीं भी बड़ी करेंसी या जेवर गायब होने की सूचना नहीं मिली।

loading...