Breaking News
  • राजकीय सम्मान के साथ मनोहर पर्रिकर का अंतिम संस्कार
  • प्रयागराज से वाराणसी तक बोट यात्रा कर रही हैं प्रियंका गांधी
  • बोट यात्रा से पहले प्रियंका ने किया गंगा पूजन, देश का उत्थान और शांति मांगी
  • आतंकवाद के खिलाफ़ कार्रवाई में सुरक्षाबलों के हाथ बड़ी सफलता, 36 घंटों के अंदर 8 आतंकी ढेर
  • पाकिस्तान ने राष्ट्रीय दिवस पर अलगाववादी नेताओं को किया आमंत्रित, भारत ने जताया सख्त ऐतराज
  • शहीद दिवस पर आजादी के अमर सेनानी वीर भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को नमन कर रहा है देश
  • आज IPL के 12वें सीजन का आरंभ, एम एस धोनी और विराट कोहली आमने-सामने

लोकसभा चुनाव की तारीखों पर विवाद, मुस्लिम नेताओं ने जताया विरोध

नई दिल्ली: पिछले काफी दिनों से जारी चर्चाओं के बीच रविवार को चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए तारीखों का ऐलान कर दिया। आयोग द्वारा तारीखों का ऐलान किए जाने के बाद एक ओर राजनीतिक दलों ने अपनी चुनावी तैयारियां तेज कर दी है, वहीं दूसरी तरफ चुवानी तारीखों को लेकर विवाद भी शुरू हो चुका है।

दरअसल, आयोग द्वार घोषित की गई तारीखों को अगर विस्तार से समझते हैं तो तीन राज्य पश्चिम बंगाल, बिहार और उत्तर प्रदेश में वोटिंग की तारीखें रमजान के महीने में पड़ रही हैं। जिसके कारण कुल मुस्लिम नेताओं और मौलानाओं ने चुनाव आयोग की मंशा पर सवाल खड़े करते हुए तारीखों में बदलाव की मांग की है।

साथियों के साथ मारा गया 40 CRPF जवानों की हत्या करने वाला आतंकी

चुनावी तारीखों पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए तृणमूल कांग्रेस के नेता व कोलकाता के मेयर फिरहाद हाकिम ने कहा कि चुनाव आयोग एक संवैधानिक निकाय है, हम उसका सम्मान करते हैं। उन्होंने कहा कि, हम आयोग के खिलाफ कुछ नहीं कहना चाहते, लेकिन सात फेज में होने वाले चुनाव बिहार, यूपी और पश्चिम बंगाल के लोगों के लिए कठिन होंगे।

उन्होंने कहा कि, इन चुनावों में सबसे ज्यादा परेशानी मुस्लिमों को होगी, क्योंकि वोटिंग की तारीखें रमजान के महीने में रखी गई हैं। फरहाद ने गंभीर आरोप लगाता हुए यहां तक कहा कि यूपी, बिहार और पश्चिम बंगाल में अल्पसंख्यकों की संख्या अधिक है और बीजेपी नहीं चाहती है कि अल्पसंख्यक अपना वोट डाल पाएं, लेकिन हम इससे परेशान नहीं हैं, क्योंकि अब लोग बीजेपी हटाओ-देश बचाओ को लेकर प्रतिबद्ध हैं।

लोकसभा चुनाव 2019 की पूरी जानकारी- 11 अप्रैल से शुरू... 23 मई को

वहीं चुनावी तारीखों पर आपत्ति जताते हुए लखनऊ ईदगाह के इमाम और शहरकाजी मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली ने आयोग से आग्रह किया है कि इन तारीखों को रमजान से पहले या ईद के बाद रखा जाए। जबकि चुनावी तारीखों पर आपत्ति को लेकर उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री ने कहा कि चुनाव आयोग एक स्वतंत्र और संवैधानिक संस्था है, अगर किसी को तारीखों पर आपत्ति है तो वह चुनाव आयोग में अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है।

loading...