Breaking News
  • सोनभद्र जमीन मामले में अब तक 26 आरोपी गिरफ्तार, प्रियंका करेंगी मुलाकात
  • वेस्टइंडीज दौरे के लिए रविवार को 11:30 बजे होगा टीम इंडिया का चयन
  • बिहार : बाढ़ से अब तक 83 लोगों की मौत
  • कर्नाटक में आज दोपहर डेढ़ बजे तक सरकार को साबित करना होगा बहुमत

जांबाज हनुमंथप्पा को नम आखों से अंतिम विदाई

जांबाज हनुमंथप्पा को नम आखों से अंतिम विदाई

नई दिल्ली: सियाचिन के जांबाज लांस नायक हनुमंथप्पा को आज राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। उनके पैतृक शहर कर्नाटक के धारवाड़ जिले के बेटादुर गांव में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। 6 दिन तक बर्फ के साथ संघर्ष करने के बाद मौत को मात दे कर लौटे थे हनुमंथप्पा। तीन दिन तक कोमा में रहने के बाद दिल्ली के सेना अस्पताल में अपना दम तोड़ दिया था। उनकी इस शहादत पर पुरा देश अपनी नम आखों के साथ गर्व कर रहा है।

आपको बता दें कि लांस नायक हनुमंथप्पा पिछले 3 फरवरी को अपने 9 साथियों के साथ सियाचिन में बर्फ के तूफान की चपेट में आ गए थे। इस हादसे में उनके 9 साथी शहीद हो गए थे। जबकि हनुमंथप्पा 6 दिनों तक कई फिट निचे बर्फ की चट्टान में दबे रहने के बाद जिंदा निकले थे। इसके बाद हनुमंथप्पा का इलाज दिल्ली के सेना अस्पताल में चल रहा था।

लांस नायक हनुमंथप्पा को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई

डॉक्टरों ने बताया कि हनुमंथप्पा के कई महत्वपूर्ण अंगों ने काम करना बंद कर दिया था और वो डीप कोमा में चले गए थे। बुधवार को राजधानी में शहीद हनुमंथप्पा को श्रद्धांजलि देने के लिए नेताओं की भीड़ उमड़ी. प्रधानमंत्री, रक्षा मंत्री समेत कई लोगों ने शहीद हनुमंथप्पा को श्रद्धांजलि दी, थलसेना अध्यक्ष दलबीर सिंह सुहाग भी शहीद के पार्थिव शरीर को अंतिम विदाई में शामिल हुए।

loading...