Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

अब बंगाल में राखी पर भी मोदी बनाम ममता

मालदा: पश्चिम बंगाल एक ऐसा प्रदेश  है , जहां राजनीति हर विषय में अपने चरम पर देखी जाती है।  छोटे-छोटे निकाय चुनाव से लेकर लोकसभा चुनाव तक यहां राजनीतिक सरगर्मियों का पारा इस तरह बढ़ता है, कि हर आम और खास को इसमें शामिल कर लेता है।  यही कारण है कि पश्चिम बंगाल में मनाए जाने वाले उत्सव और त्यौहार भी राजनीति से दूर नहीं रह पाते हैं।

भाई-बहन के पवित्र रिश्ते के रुप में मनाए जाने वाले रक्षाबंधन त्यौहार पर भी राजनीति का असर दिख रहा है। पश्चिम बंगाल के विभिन्न हिस्सों में  बाजार इन दिनों राखियों से पूरी तरह से पट चुके हैं । लेकिन इन सबके बीच जो सबसे दिलचस्प बात है कि यहां राखियों पर भी अब राजनीतिक  दलों के नेताओं की तस्वीर उकेरने लगे हैं।

पश्चिम बंगाल की राजनीति की ही तरह  बाजारों में बिक रही इन राखियों में भी सबसे ज्यादा टक्कर भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच दिख रही है। बाजार में मोदी और ममता बनर्जी की तस्वीरों वाली राखियों की खूब बिक्री हो रही है।  यही कारण है कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तस्वीर वाली राखियां भी इन दिनों खूब डिमांड पर हैं ।

जहां एक ओर राखी बिक्री करने वाले व्यवसाइयों का कहना है कि समाज की मांग और लोगों के मूड के आधार पर ही हम लोग राशियों का निर्माण करते हैं।  और यही कारण है कि इस बार हम लोगों ने ममता दीदी और मोदी की तस्वीर इन राखियों पर उकेर कर  बाजारों में उतारा है।  व्यवसाइयों की माने तो बाकी के राखियों के मुकाबले इन राखियों की मांग काफी ज्यादा है।  वही राखियों की खरीदारी करने पहुंचे लोग भी ममता और मोदी  के चिन्ह वाले राखियों की खूब खरीदारी कर रहे हैं।

बाजारों में इस तरह से दिख रही राजनीतिक ताने बाने से लबरेज इन राखियों ने एक बात तो सिद्ध कर दिया है कि, पश्चिम बंगाल में राजनीति  ना केवल अपने चरम पर है , बल्कि हर जनमानस को अपनी ओर आकर्षित कर रखा है । यही नही इससे कोई भी व्यक्ति और त्यौहार अछूता नहीं  रह पा रहा है।

loading...