Breaking News
  • कोलकाता में ममता की महारैली में जुटा मोदी विरोधी मोर्चा, केजरीवाल, अखिलेश समेत 20 दिग्गज नेता
  • रूसी तट के पास गैस से भरे 2 पोत में आग लगने से 11 की मौत, 15 भारतीय भी थे सवार
  • जम्मू-कश्मीर: भारी बर्फबारी के बीच सुरक्षाबलों का ऑपरेशन ऑल आउट, 24 घंटे में 5 आतंकी ढेर
  • वाराणसी: 15वे प्रवासी सम्मेलन में पीएम मोदी, लोग पहले कहते थे कि भारत बदल नहीं सकता. हमने इस सोच को ही बदल डाला
  • नेपाल ने लगाया 2000, 500 और 200 रुपए के भारतीय नोटों पर बैन

मायावती ने दिया भाजपा को समर्थन, देश की राजनीति में भूचाल!

नई दिल्ली: राजनीति में न कोई किसी का हमेशा के लिए दोस्त होता है और न ही कोई दुश्मन! भारतीय राजनीति में ऐसे कई मैके आए जब ये कथन सत्या साबित हुआ। इस बीच उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा प्रमुख मायावती ने एक बार फिर से एक ऐसा फैसला किया है, जिसने राजनीतिक महकमें में खलबली मचा दी है।

दरअसल, इससे पहले मायावती ने जब अपनी विरोधी पार्टी सपा के साथ हाथ मिलाने का फैसला किया था। सालों पुरानी दुश्मनी को भूलाते हुए सपा और बसपा के मेल ने पूरे देश को हैरान कर दिया था। वहीं अब मायावती ने अपने सबसे बड़े विरोधी भारतीय जनता पार्टी को समर्थन देकर एक बार फिर से पूरे देश की राजनीति में नई हलचल पैदा कर दी है।

दिल्ली का दर्दनाक शेल्टर होम- बच्चियों से कराते थे सारे काम, गलती की स…

ताजा मामला महाराष्ट्र के अहमदनगर मेयर चुनाव से जुड़ा है। यहां भाजपा के बाबासाहेब वाकले 37 मतों के साथ अहमदनगर के मेयर निर्वाचित हुए हैं। बता दें कि 68 सदस्यीय नगर निकाय में भाजपा के पास सिर्फ 14 सीटें थी, लेकिन राकांपा के 18 और बहुजन समाज पार्टी यानी बसपा के चार सदस्यों के साथ एक निर्दलीय पार्षद ने भी भाजरा प्रत्याशी के समर्थन में मतदान किया।

पीएम मोदी की रैली के बाद भीड़ ने पुलिस वाले को मार डाला

वहीं, शिवसेना 24 सीटों के साथ नगर निकाय में सबसे बड़ी पार्टी रही, जबकि कांग्रेस के पांच सदस्य मतदान से अनुपस्थित रहे। आपको बता दें कि अहमदनगर मेयर चुनाव में राकांपा और बसपा के समर्थन से भाजपा प्रत्याशी की जीत की बात कांग्रेस पार्टी के अनपच जैसी स्थिती पैदा कर दी है, जिससे निपटने के लिए कांग्रेस पार्टी भी नई संभावनाओं की तलाश में जुटी है।

बिहार के पुलिस थानों में चाय-पानी के साथ न्याय की व्यवस्था!

loading...