Breaking News
  • पहली बार पत्थर फेंकने वालों के खिलाफ मामले वापस होंगे: J&K सीएम
  • दिल्ली: पीएम मोदी ने किया साइबर स्पेस पर 5वीं वैश्विक सम्मेलन का उद्घाटन
  • रिहा होते ही हाफिज सईद ने उगला जहर, कहा- जल्द आजाद होगा कश्मीर
  • कोहरे के कारण 17 ट्रेन लेट, 6 के समय में बदलाव, एक रद्द

शहीद पति के बाद पत्नी ने पहनी आर्मी की वर्दी, देश के नाम दिया बड़ा संदेश

नई दिल्ली: देश के लिए शहीद हुए कर्नल संतोष महाडिक की पत्नी ने अपने हाथों में देश की सुरक्षा का कमान संभाल लिया है। बता दें कि साल 2015 में जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में आंतकियों को धूल चटाने के दौरान कर्नल संतोष महाडिक शहीद हो गए थे, जिसके करीब तीन सालों बाद पिछले दिनों शहीद कर्नल की पत्नी स्वाति ने अब सेना की वर्दी पहल ली है। दरअसल पति के शहादत के बाद स्वाति ने ठान ली थी की वो अपने पति के प्यार को पा कर रहेगीं।

उनकी ये जिद और लगन ने जल्द ही रंग दिखाया और उन्होंने सेवा चयन बोर्ड यानी एसएसबी की परीक्षा पास कर ली, इसके पीछे उनके पति शहीद कर्नल संतोष महाडिक का सेना के प्रति प्यार और जुनून था जिसको आज पूरा करने के लिए स्वाती ने आर्मी की वर्दी पहनी है। आपको बता दें कि जब कर्नल संतोष म्हाजडिक जिंदा थे तो स्वाति टीचिंग किया करती थीं, हालांकि सेना जॉइन करने के बारे में उन्होंने तुरंत फैसला लिया।

Breaking News: सेना ने मार गिराए दो आतंकी, एक ज़िंदा पकड़ाया

अपने पति के प्यार में उन्होंने यह फैसला लिया, उन्होंने बताया था कि अंतिम संस्कार के वक्त पति के पार्थि‍व शरीर को देखकर वह बेहद भावुक हो गईं थीं, उसी समय उन्होंने सेना में शामिल होने का फैसला कर लिया था। स्वाति ने कहा था कि, ''उनकी यूनिफॉर्म पहनकर मुझे ऐसा लगेगा कि वह भी मेरे साथ हैं, यही वजह है कि मैंने आर्मी जॉइन करने का फैसला किया'' स्वाति ने पिछले साल ही एसएसबी की परीक्षा पास की थी। शहीद कर्नल संतोष महादिक को उनके बेटे स्वाराज ने मुखाग्नि दी थी, उनकी एक बेटी भी है। स्वाति चाहती हैं कि उनके बच्चे भी बड़े होकर आर्मी जॉइन करे।

स्वाति ने पिछले साल एसएसबी का एग्जाम दिया और सभी राउंड क्लियर किए। आर्मी ऑफिसर बनने के लिए उनकी उम्र आड़े आ रही थी, इसके लिए उन्होंने तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर से गुजारिश की तो मनोहर पर्रिकर ने इसके लिए हामी भर दी। स्वाति कहती हैं कि पति का पहला प्यार उनकी वर्दी थी, मुझे तो पहनना ही था। बता दें कि महाराष्ट्र के रहने वाले कर्नल संतोष महाडिक 2015 में जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में आतंकियों से लड़ते हुए शहीद हो गए थे। वो अपनी टीम का नेतृत्व कर रहे थे।

टेरर अलर्ट: पठानकोट पर फिर हमला ?

REPORT BY: ANIRUDH GOPAL  

loading...