Breaking News
  • अयोध्या मामले में 2 अगस्त से खुली कोर्ट में सुनवाई, 31 जुलाई तक मध्यस्थता की प्रक्रिया
  • महाराष्ट्र में गोरखपुर अंत्योदय एक्सप्रेस पटरी से उतरी
  • अमरनाथ यात्रा पर आतंकी कर सकते हैं आतंकी हमला : सूत्र
  • कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार का शक्ति परीक्षण, 2 बसों में विधानसभा पहुंचे BJP विधायक

TMC कार्यकर्ताओं की हत्या पर ममता के... बोले, खून का बदला खून

नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव के दौरान पश्चिम बंगाल में छिड़ा सियासी जंग अब धीरे-धीरे खूनि जंग का रूप ले रहा है। इस चुनाव के दौरान जहां कई हिंसक झड़प की बातें सामने आई थी, वहीं कई बीजेपी और टीएमसी कार्यकर्ताओं की भी खबरें आई थी। जिसका आरोप बीजेपी ने टीएमसी पर तो टीएमसी ने बीजेपी लगाया। लेकिन यह आरोप, प्रत्यारोप और खूनि हिंसा अब भी रूकने का नाम नहीं ले रहा है। आपको बता दें कि हालही में कूचबिहार और  उत्तरी दमदम में टीएमसी के दो कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी गई थी। जिसके बाद  इलाके में तनाव का माहौल उत्पन्न हो गया। जिस दौरान दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं के बीच हिंसक झड़प की भी खबरें आ रही है।

बता दें कि मंगलवार रात उत्तरी दमदम नगरपालिका के वार्ड 6 अध्यक्ष और टीएमसी नेता निर्मल कुंडू को गोली मार हत्या कर दी गई थी। गोली लगने के बाद कुंडू को एक प्राइवेट अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। वहीं बुधवार को कूचबिहार के दिनहाटा में तृणमूल कार्यकर्ता अजीजुर रहमान की लोगों ने पीट पीटकर हत्या कर दी थी, जिसका आरोप टीएमसी ने बीजेपी पर लगाया था। जिससे एकबार फिर टीएमसी और बीजेपी कार्यकर्ता आमने–सामने आ गये। जिसके बाद बंगाल के खाद्य मंत्री ज्योतिप्रिया मल्लिक ने टीएमसी नेता की निर्मम हत्या पर बीजेपी को खुली चुनौती दी है।

उन्होंने कहा है कि, “मेरे पास कहने के लिए कुछ भी नहीं है। सुपारी किलर के साथ आरोपी देखा गया है। आरोपी ने बीजेपी के साथ मिलकर चुनाव प्रचार किया है। उसने सुपारी किलर को मदद की है। तब सुपारी किलर ने टीएमसी कार्यकर्ता की हत्या कर दी। हम जानना चाहते हैं कि मास्टरमाइंड कौन है? बैरक या बीजापुर से है? जिसने हमारे नेता को मारने का आदेश दिया। हम मास्टरमाइंड को भी नहीं छोड़ेंगे। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।"

मल्लिक ने कहा कि निर्मल कुंडू हमारे लोकप्रिय नेता थे। लोकसभा चुनाव में उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया था। उनके बूथ से टीएमसी को 600 वोटों की बढ़त मिली थी। हम जानना चाहते हैं कि इस हत्या के पीछे कौन मास्टरमाइंड है। क्या वह भाटपार या बीजापुर का डॉन है? हमने राजनीतिक लड़ाई शुरू कर दी है। अगर लड़ाई हम लड़ते हैं इसे स्वीकार करने के लिए तैयार हैं। यदि खून बहता है, तो हम भी जवाब देंगे।

ममता बनर्जी के कार्यक्रम का जिक्र करते हुए ज्योतिप्रिया मल्लिक ने कहा कि अगर संघर्ष शुरू होता है तो हम भी संघर्ष के लिए तैयार हैं। हमने बीजेपी को खुली चुनौती दी। हम काला दिवस मनाएंगे। हम जिलों में रैली का आयोजन करेंगे। मुख्यमंत्री आज यानी गुरुवार को आएंगी। बीजेपी ने गंदे खेल की शुरुआत की है। हम अगले 10 दिनों में इसका अंत देखेंगे। हमने बीजेपी को यह खुली चुनौती दी है।

इस घटना के बाद पुलिस ने सुमन कुंडू और सुजय दास को कथित तौर पर गोली मारने के आरोप में हिरासत में ले लिया है। जिसे बुधवार को बैरकपुर उप-मंडल अदालत में पेश किया गया है। उनके पास से कुछ हथियार और कारतूस भी मिले हैं। पुलिस ने कहा कि दोनों आरोपी बीजेपी कार्यकर्ता हैं।

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव 2019 में बीजेपी ने टीएमसी के नींव हिला दी थी, जिससे टीएमसी के रातों की नींद उड़ गई। अपने इस अभेद किले को बचाने के लिए ममता काफी मशक्कत कर रही है। बता दें कि ममता बनर्जी गुरुवार को यानी 6 जून को मारे गए टीएमसी कार्यकर्ता के घर जाएंगी।

loading...