Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

ममता-ममता गूंज रहा है, पश्चिम बंगाल सूज रहा है!

कोलकाता: ममता-ममता गूंज रहा है, पश्चिम बंगाल सूज रहा है...क्रांतिकारियों और समाज सुधारकों की धरती बंगाल, सियासी गुंडों के कब्जे में है। पहले पंचायत चुनाव, फिर लोकसभा चुनाव, और अब विधानसभा चुनाव से दो साल पहले ही बंगाल में सियासी ज्वालामुखी फटने का सिलसिला सिलसिलेवार तरीके से जारी है।

राज्य की ममता सरकार की माने तो उनकी व्यवस्था नंबर वन है, लेकिन केंद्र की मोदी सरकार ममता के वादों को वादाखिलाफी मानती है। नतीजा है कि गृह मंत्रालय बंगाल हिंसा पर एडवाइजरी जारी कर सरकार को भेदभाव से परे रहने के निर्देश जारी कर रही है, और ममता जलते बंगाल पर सियासी रोटियां सेक रही हैं।

ये तस्वीरें उसी बंगाल से आई है, जहां टीएमसी और बीजेपी एक दूसरे के खून की प्यासी दिख रही है, और हिंसा की भेंट चढ़े पीड़ितों का दुख-दर्द बांटने के बजाय दीदी विधानसभा चुनाव की राह आसान करने में जुटी हैं। तस्वीरों में ममता अपने साथियों के साथ महान समाजसुधारक ईश्वरचंद विद्यासागर की मूर्ती पर पुष्प अर्पित कर रही हैं।

विद्यासागर की मूर्ती पर पुष्प अर्पित कर ममता भले ही अपना पाप धो ले, लेकिन यह हकीकत है कि ममता के दिलों में विद्यासागर के अनुआइयों के लिए कोई जगह नहीं बची है। क्योंकि अगर ऐसा होता तो जिस विद्यासागर ने बंगाल को समाजिक बुराइयों से निकालने में अपनी पूरी जिंदगी खपा दी, उसी बंगाल को यू धधकता छोड़ ममता सियासी राह नहीं तैयार कर रही होती।

आइए एक नजर पूरे मामले पर डालते हैं...

दरअसल, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी मंगलवार को कोलकाता के विद्यासागर कॉलेज में महान समाज-सुधारक  ईश्वरचंद विद्यासागर की टूटी हुई मूर्ति की जगह नई मूर्ति का अनावरण किया है।

बता दें कि लोकसभा चुनाव के दौरान 14 मई को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो का फैसला किया था। जिसमें बड़े स्तर पर हिंसा भड़क उठी थी।

बीजेपी की माने तो टीएमसी के गुंडों ने शाह के रोड शो पर कई बार हमले किए। इस बीच जब शाह का काफिला विद्यासागर कॉलेज के पास पहुंची तो छिटपुट हिंसक घटनाओं ने भीषण रूप धारण कर लिया और दोनों ओर से हुए टकराव की भेंट चढ़ी विद्यासागर की मूर्ति।

जिसके बाद बंगाल में  विद्यासागर की टूटी हुई प्रतिमा पर बीजेपी और टीएमसी के बीच जमकर घमासान हुई, मोदी ने कहा हम कांसे की मूर्ति लगवाएंगे, तो ममता ने जवाब दिया हम विद्दासागर की मूर्ति लगावाने में सक्षम।

loading...