Breaking News
  • मंदी से निपटने के लिए सरकार ने किए बड़े ऐलान, ऑटो सेक्टर को होगा उत्थान
  • तीन देशों की यात्रा के दूसरे चरण में यूएई की राजधानी आबू धाबी पहुंचे मोदी
  • देश भर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, राष्ट्रपति कोविंद और पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं
  • 1st Test Day-2: भारत की पहली पारी 297 रनों पर सिमटी, रवींद्र जडेजा ने बनाए 58 रन

ईडी के आंखों के सामने सरक गया कमलनाथ का भतीजा, उठे सवाल

नोएडा : प्रवर्तन निदेशालय, बोले तो ईडी, के साथ गजब हो गया। दिल्ली से लेकर देश के अलग-अलग राज्यों में धनकुबेरों पर सामत बनकर टूटने वाली केंद्रीय जांच एजेंसी के दामन पर पहले कई दाग लगे हैं। लेकिन अब जो नया दाग लगा है उससे न सिर्फ सरकार बल्कि सिस्टम के मंशा पर भी सवाल उठ खड़े हुए है।  

शायद आप यह सुनकर हैरान हो सकते हैं कि जांच एजेंसी की दफ्तर में आया एक कथित आरोपी अधिकारियों की आंख में धूल झोंक फरार हो गया। ये आरोपी भी कोई छोटा-मोटा फरेबी नहीं बल्कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथा का भतीजा है, जिसे रतुल पुरी कहते हैं।

रतुल पुरी वीवीआईपी हेलि‍कॉप्टर अगस्ता वेस्टलैंड डील मामले के आरोपियों में से एक है। जिसके खिलाफ ईडी की जांच चल रही है। ईडी ने रतुल को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में पूछताछ के लिए तलब किया था। जांच एंजेंसी के अनुसार रतुल ईडी दफ्तर भी पहुंचे, हल्की पूछताछ हुई, और भनक लग गई की अब वे सलाखों के करीब है। लेकिन इससे पहले कानून के लंबे हाथ रतुल तक पहुंचे, उससे पहले ही वह रफुचक्कर हो गया।

लेकिन यहां सबसे बड़ी हैरानी की बात है कि ईडी अधिकारी रतुल के इंतजार में हाथ पर हाथ धरे बैठे रहें और सियासी रसूख वाले रतुल को कोर्ट से भी गुड न्यूज मिल गई। जानकारी के अनुसार, कोर्ट ने सोमवार दोपहर 2 बजे तक उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। जिला अदालत ने सोमवार के लिए यह मामला सूचीबद्ध कर लिया है।

आपको बता दें कि जांच एजेंसी के दफ्तर से किसी आरोपी के इस कदर फरार होने के बाद अब ईडी की मंशा पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। हालांकि इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। पर, आरोप है कि रतुल को गिरफ्तारी की जानकारी ईडी के ही किसी अधिकारी ने दी थी।

loading...