Breaking News
  • नये ट्रैफिक नियमों में बढ़े हुए जुर्माने के खिलाफ हड़ताल पर ट्रांसपोर्टर्स
  • यूनाइटेड फ्रंट ऑफ ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन ने किया है हड़ताल का आहवाहन
  • महाराष्ट्र दौरे पर पीएम मोदी, नासिक से करेंगे चुनाव प्रचार अभियान का आगाज
  • साउथ अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टी20 मैच में 7 विकेट से जीता भारत

भारत के इस राज्य की आधी आबादी जूझ रही खून की कमी से, बच्चे और गर्भवती महिला भी

नोएडा : मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले की आधी आबादी रक्त की कमी से जूझ रही है, यह हाल  तब है जब सरकार शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले परिवारों के स्वास्थ्य सुधार के लिए कई पोषण योजनाएं चला रही है। इन सबके बाद भी जिले का हर दूसरा व्यक्ति खून की कमी का शिकार है। इनमें सबसे ज्यादा बच्चे और गर्भवती महिलाएं प्रभावित हो रही है।

दरअसल हाल ही में आए आंकड़ों ने स्वास्थ्य महकमा और महिला बाल विकास विभाग के होश उड़ा दिए हैं, आंकड़ों में जिले की आधी आबादी में रक्त की कमी है। अगर हम बात करें जिले के बच्चों की तो करीब 50% बच्चे और 53 फ़ीसदी महिलाएं रक्त की कमी से जूझ रहे हैं। कमोबेश यहीं स्थिति पुरुषों के मामले में भी है लगभग 45 फ़ीसदी पुरुषों में रक्त की कमी पाई गई है। एनीमिया की भयानक स्थिति देखकर आप भी अंदाजा लगा सकते हैं की तमाम प्रयासों के बावजूद भी इन रोगों से मुक्ति नहीं मिल पा रही है।

हालांकि महिलाओं में यह समस्या तब और बढ़ जाती है जब वे गर्भवती होती है। महिला बाल विकास के अफसर बताते हैं कि वर्तमान का खान-पीन महिलाओं, बच्चों और पुरुषों में रक्त की कमी को बढ़ा रहा है। गर्भवती महिलाएं अपने स्वास्थ्य के प्रति जरा भी लापरवाह हो, तो इसके परिणाम भयंकर हो सकते हैं।

सरकारी स्तर पर कई इलाकों में एनीमिक बच्चों और महिलाओं की पहचान कर उन्हें विशेष स्वास्थ्य सुविधाएं जरूर दी गई है, लेकिन आबादी के हिसाब से अभी यह आंकड़ा कम करने में स्वास्थ्य विभाग और महिला बाल विकास को काफी पसीना बहाना पड़ेगा। हालांकि महिला बाल विकास  विभाग ने लोगों से स्वास्थ्य के प्रति जागरूक होने और नियमित जांच कराने की अपील की है।

loading...