Breaking News
  • बैंक खातों को आधार से जोड़ना अनिवार्य: आरबीआई
  • कट्टरता के खिलाफ भारत मजबूत कार्रवाई कर रहा है: सेना प्रमुख बिपिन रावत
  • कुपवाड़ा में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़
  • विदेश मंत्री सुषमा स्वराज आज से बांग्लादेश के दो दिवसीय दौरे पर होंगी रवाना

गोरखा कार्यकर्ताओं ने फूंका टीएमसी ऑफिस, तीन की मौत

कोलकाता/दार्जिलिंग: पश्चिम बंगाल का उत्तरी पर्वतीय इलाका इस समय अलग राज्य की मांग में जल रहा है। हालात बद से बदतर हो चुके हैं। गोरखा कार्यकर्ताओं की पुलिस की गोली से मौत के बाद गोरखा कार्यकर्ताओं ने अलग राज्य की मांग को लेकर टीएमसी के दफ्तर में आग लगा दी।

बतादें कि करीब एक माह से दार्जिलिंग में अलगर राज्य की मांग सुलग रही है। अलग राज्य की मांग कर रहे गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ता लगातर अब उग्र रूप अपनाए हुए हैं। शनिवार को गुस्साएं गोरखालैंड के समर्थकों ने टीएमसी के ऑफिस और एक पुलिस की गाड़ी को जला दिया। प्रदर्शनकारियों ने टॉय ट्रेन के लिए मशहूर दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे के स्टेशन पर वेटिंग रूम को आग के हवाले कर दिया और वहां रखे फर्नीचर से जमकर तोड़-फोड़ की गई।

यह कार्यकर्ता सीएम ममता बनर्जी के बयानों से खफा हैं। वहीँ पूरे मामले पर गोरखा जनमुक्ति कोर्चा का कहना है कि ताशी भूटिया को शुक्रवार की रात सोनादा में पुलिस ने गोली मार दी। शनिवार की सुबह दार्जिलिंग में सूरज संदास की पुलिस फायरिंग में मौत हुई। शनिवार को ही तीसरे व्यक्ति समीर गुरुंग की भी पुलिस फायरिंग में सिर पर गोली तब मारी गई, जब वह पुलिस की गोली का निशाना बने सूरज संदास को श्रद्धांजलि देने जा रहा था। वहीँ पुलिसिया कार्रवाई में कार्यकर्ताओं के मारे जाने की खबर से हिंसा और भी भडक गयी।

दो देशों के दौरे के बाद स्वदेश लौटे पीएम नरेन्द्र मोदी

जिसके बाद कार्यकर्ताओं ने टीएमसी ऑफिस को ही आग के हवाले कर दिया। गोरखा कार्यकर्ता लगातार केंद्र और राज्य से अलग राज्य गोरखालैंड मनाने की बात पर अड़े हैं। वहीं पूरे मामले पर केंद्र सरकार चुप्पी साधे है। केंद्र सरकार हालात के अनुसार राज्य को मदद दे रही है, लेकिन वेस्ट बंगाल की सीएम ममता बनर्जी केंद्र पर आरोप लगा रही हैं कि अलग राज्य की मांग को केंद्र सरकार की हवा दे रही है। जिससे राज्य के हालात बिगड़ रहे हैं।       

loading...