Breaking News
  • यूपी: टूंडला स्टेशन के पास कालिंदी एक्सप्रेस पटरी से उतरी, बीती रात 1:40 बजे हुआ यह हादसा
  • आज से बैंक खाते से निकाले जा सकेंगे 50 हजार रुपये, 13 मार्च से कैश निकासी की कोई सीमा नहीं
  • आज उत्तर प्रदेश में फूलपुर और जालौन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुनावी रैली
  • सऊदी अरब: पहली बार महिला को बनाया गया शेयर बाजार का प्रमुख और दैनिक अखबार का मुख्य संपादक
  • सराह अल-सुहैमी सऊदी शेयर बाजार की प्रधान और पत्रकार सोमाया जबराती बनी मुख्य संपादक

‘नोटबंदी के कारण मारे गए लोगों को मिले शहीद सम्मान और मुआवजा’


रांची:देश भर में 500 और 1000 के पुराने नोटों पर बैन लगाए जाने के बाद से लोगों की परेशानियां बढ़ गई। इस क्रम में कुछ खबरें ऐसी भी आई जिनमें नोटबंदी के कारण कुछ लोगों की मौत की भी बात की जा रही है।

तो इधर नोट बंदी पर जमकर राजनीति भी की जा रही है। एक ओर दिल्ली में अरविंद केजरीवाल और ममता बनर्जी लोगों की परेशानियों और सरकार के इस फैसले के खिलाफ धरने पर बैठे है। तो वहीं भाजपा शासित राज्य झारखंड में विरोधी दल के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री  हेमंत सोरेन ने नोटबंदी के कारण मारे गए लोगों को शहीद घोषित किया जाने की मांग की है।

हेमंत सोरेन ने गुरुवार को विधानसभा में कहा कि केंद्र सरकार के अनुसार यह कदम देश के भले के लिए उठाया गया है, इस लिए हम इसका समर्थन करते है, लेकिन इस कारण जिन लोगों की मौत हुई है, उन्हें शहीद का दर्जा दिया जाए।

उन्होंने कहा कि केवल शहीद का दर्जा ही नहीं इन्हें पुरे सम्मन भी मिलने चाहिए, क्योंकि इन लोगों ने देश के लिए अपनी जान गवां दी। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के कारण मारे गए लोगों के लिए सरकारी मुआवजे के साथ-साथ अन्य सभी सुविधाएं भी मिलनी चाहिए।

खबरों के अनुसार नोटबंदी के कारण झारखंड में अब तक 4 लोगों की मौत हो गई है, तो वही 4 लोगों की मौत की खबर तेलंगाना से भी है, अन्य कुछ लोगों की मौत की खबर देश के अन्य शहरों से भी है। हालांकि देश की ज्यादा तर जनता अपनी परेशानियों को नजरअंदाज कर सरकार के इस फैसले के साथ खड़ी दिख रही है।